Naidunia
    Tuesday, February 21, 2017
    PreviousNext

    कोलारस अनुविभाग के दर्जनों गावों में पाले से धनिया की फसल हुई बर्बाद

    Published: Sat, 14 Jan 2017 07:04 PM (IST) | Updated: Sat, 14 Jan 2017 07:04 PM (IST)
    By: Editorial Team
    14shivjan24 14 01 2017

    कोलारस। अनुविभाग के अन्नदाताओं को उनके हक की मुआवजा राशि दिलाने के लिए बदरवास जनपद प्रागण में विगत वर्ष अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठने वाले जनपद उपाध्यक्ष व सांसद प्रतिनिधि रामवीरसिंह यादव एक बार फिर किसानों की समस्याओं को लेकर प्रशासन को आड़े हाथ लेने का मन बना चुके हैं। यादव ने बताया कि उन्होंने शुक्रवार को कोलारस अनुविभाग के ग्राम बेरखेड़ी, अटलपुर, चंदौरिया, सांडर, सींगन, बढ़ोखरा, हतनापुर, बांहगा, सेमपुरा, भासोंरा, सेमरी, विजरावन, बारई, झूलना, आरी, सडबूढ, खाईखेड़ा, कुंडाई, डंगोरा, अनतपुर, पचावला, पचावली, इमलावदी आदि गांवों का दौरा कर किसानों से उनका हाल-चाल जाना। दयाराम, फेरन, पलुआ, महेन्द्र, उधम सिंह, लक्ष्मीनारायण, बाबूलाल, मेहरबान, कैलाश सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने बताया कि पाले की वजह से उनके खेतों में खड़ी धनिया की फसल पूर्ण रूप से नष्ट हो चुकी है और अब तक प्रशासन की तरफ से बर्बाद फसल का सर्वे करने के लिए कोई नहीं आया है।

    बर्बाद फसल का सर्वे कराकर मुआवजा नहीं दिया गया, तो फिर होगा आंदोलन

    सांसद प्रतिनिधि रामवीरसिंह यादव ने कहा कि वह किसानों के हित की लड़ाई अंतिम सांस तक लड़ता रहूंगा। अन्नदाता लगातार 4 वर्षों से कहीं सूखे तो कहीं ओलावृष्टि की मार झेल रहा है। इस परिस्थिति में अन्नदाताओं को बर्बाद हो रही फसलों का न तो मुआवजा मिल रहा है और न ही बीमा राशि। हम अन्नदाताओं को साथ लेकर अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर बर्बाद हुई धनिया की फसल का सर्वे किए जाने एवं मुआवजा राशि की मांग करेगें। यदि 7 दिवस के अंदर सर्वे नहीं हुआ तो हम पुनः आंदोलन करने के लिए सक्षम हैं।

    सर्वे कराकर मुआवजा दिलाएंगे

    मामला आपके द्वारा संज्ञान में लाया गया है। हम आपके द्वारा बताए गए गावों का सर्वे कराएंगे। सर्वे में धनिया की फसल में नुकसान पाया गया तो किसानों को मुआवजा राशि दिलाएंगें।

    आरके पांडे, एसडीएम कोलारस

    और जानें :  # shivpuri news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी