Naidunia
    Saturday, May 27, 2017
    PreviousNext

    शिवनवरात्रि उत्सव : दूल्हे राजा को धारण कराई शाही पगड़ी

    Published: Thu, 16 Feb 2017 07:51 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 02:18 PM (IST)
    By: Editorial Team
    mahakal 2017216 19591 16 02 2017

    उज्जैन। विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में गुरुवार से शिवनवरात्रि उत्सव की शुरुआत हुई। पुजारियों ने राजाधिराज भगवान महाकाल को केसर, चंदन, हल्दी, सुगंधित द्रव्य लगाकर सोला, दुपट्टा, मेखला तथा शाही पगड़ी धारण कराकर दूल्हे रूप में श्रंगार किया।

    नवरात्रि के नौ दिन भक्तों को अवंतिकानाथ के विभिन्न् रूपों में दर्शन होंगे। शिवरात्रि पर मध्यरात्रि के बाद भगवान के शीश पर सवा मन फूल तथा फल का मुकुट (सेहरा) धारण कराया जाएगा।

    पुजारियों ने सुबह नेवैद्य कक्ष में भगवान चंद्रमौलेश्वर के बाद कोटितीर्थ कुंड के समीप स्थित श्री कोटेश्वर महादेव का अभिषेक-पूजन किया। इसके बाद गर्भगृह में 11 पंडितों ने एकदश-एकादशनी रुद्रपाठ से भगवान का अभिषेक-पूजन किया। भगवान को नवीन वस्त्र धारण कराकर मुंडमाला से श्रृंगार किया गया।

    नौ दिन तक श्रद्धालुओं को भगवान के शेषनाग, घटाटोप, छबीना, होल्कर, मनमहेश, उमा-महेश, शिवतांडव रूप में दर्शन होंगे। 28 फरवरी को चंद्र दर्शन की दूज पर भक्तों को महाकाल के पंचमुखारविंद रूप में दर्शन होंगे। साल में एक बार शिवरात्रि के बाद आने वाली फाल्गुन शुक्ल द्वितीया पर भक्तों को इस रूप में राजा के दर्शन होते हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी