Naidunia
    Sunday, December 4, 2016
    PreviousNext

    आईएफएस अजीत श्रीवास्तव रिश्वत कांड में दोषी

    Published: Fri, 02 Dec 2016 04:01 AM (IST) | Updated: Fri, 02 Dec 2016 04:01 AM (IST)
    By: Editorial Team

    -जांच कमेटी ने मई में शासन को भेजी थी रिपोर्ट

    -बीके सिंह के खिलाफ दी अभियोजन की अनुमति

    भोपाल। ब्यूरो

    टिम्बर कारोबारी से 55 लाख रुपए की रिश्वत मांगने के मामले में जांच अधिकारी ने आईएफएस अफसर अजीत श्रीवास्तव को दोषी पाया है। जांच कमेटी ने छह माह पहले यह रिपोर्ट शासन को भेजी है, जो अब वनमंत्री को भेजी जा रही है। वहीं शासन ने लोकायुक्त पुलिस को आईएफएस बीके सिंह के खिलाफ अभियोजन की अनुमति दे दी है। वे बेनामी संपत्ति के मामले में फंसे हैं। वहीं 11 मामलों में 9 आईएएफ अफसरों के खिलाफ जांच चल रही है।

    मुख्य वनसंरक्षक अजीत श्रीवास्तव का 8 दिसंबर-15 को ऑडियो वायरल हुआ था। जिसमें वे जबलपुर के टिम्बर कारोबारी अशोक रंगा से एक मामले में कार्रवाई न करने के बदले 50 लाख रुपए की मांग कर रहे थे। मामले की जांच तत्कालीन एसीएस गृह विभाग बीपी सिंह की अध्यक्षता में बनी कमेटी ने की थी। जिसमें पीसीसीएफ जितेंद्र अग्रवाल भी थे। इस जांच में श्रीवास्तव दोषी पाए गए हैं। वन विभाग के एसीएस दीपक खांडेकर ने इसकी पुष्टि की है। ऑडियो वायरल होने के बाद शासन ने सीसीएफ श्रीवास्तव को पद से हटा दिया था।

    उधर, लोकायुक्त पुलिस ने फरवरी 2013 में उज्जैन के तत्कालीन सीसीएफ बीके सिंह के घर छापा मारा था। जिसमें बेनामी संपत्ति मिली थी। लोकायुक्त पुलिस ने राज्य सरकार से सिंह के खिलाफ अभियोजन की अनुमति मांगी थी, जो दे दी गई है। अब लोकायुक्त उनके खिलाफ विशेष न्यायालय में चालान पेश करेगी।

    बचने की संभावना कम

    रिश्वत मांगने के मामले में सीसीएफ अजीत श्रीवास्तव के बचने की संभावना कम दिखाई दे रही है। दरअसल, उनके मामले की जांच गृह विभाग के तत्कालीन एसीएस बीपी सिंह ने की थी, जो अब प्रदेश के मुख्य सचिव हैं। यानी मुख्य सचिव के स्तर से श्रीवास्तव को राहत की

    गुंजाइश कम है।

    इनके मामले लंबित ...

    रमेश थेटे

    आईएएस रमेश थेटे के खिलाफ लोकायुक्त पुलिस ने चालान पेश करने की अनुमति राज्य सरकार से मांगी थी, जो अभी तक नहीं मिली है। उनके खिलाफ उज्जैन में सीलिंग की जमीन मुक्त करने का मामला चल रहा है।

    डॉ. मयंक जैन

    1995 बैच के आईपीएस अफसर डॉ. जैन के घर लोकायुक्त पुलिस ने छापा मारा था। उन पर अनुपातहीन संपत्ति रखने का आरोप लगा। वे वर्तमान में सस्पेंड चल रहे हैं।

    .....

    अजीत श्रीवास्तव की जांच रिपोर्ट मंत्री को भेज रहे हैं। उनके अनुमोदन के बाद रिपोर्ट मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री को भेजी जाएगी। बीके सिंह के मामले में अभियोजन की अनुमति दे दी है।

    दीपक खांडेकर, अपर मुख्य सचिव, वन

    और जानें :  # state beauro
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी