Naidunia
    Thursday, March 23, 2017
    PreviousNext

    हाल ए सरकारी स्कूल! शिक्षक नहीं हैं तो बच्चे ही पढ़ाते हैं बच्चों को

    Published: Thu, 16 Feb 2017 04:09 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 05:43 PM (IST)
    By: Editorial Team
    student teach student harda 2017217 153353 16 02 2017

    हंडिया(हरदा), नवदुनिया न्यूज। हंडिया संकुल क्षेत्र में अतिथि शिक्षकों की हड़ताल का असर देखने को मिल रहा है। अगले माह से परीक्षा शुरू होना है, ऐसे में स्कूलों में शिक्षकों की कमी के कारण पढ़ाई प्रभावित हो रही है। नयापुरा हायर सेकेंडरी स्कूल में कहने के लिए 10 शिक्षक हैं, जिसमें 3 नियमित शिक्षक और 7 अतिथि शिक्षक शामिल है। अतिथि शिक्षकों की हड़ताल के कारण शाला में वर्तमान में सिर्फ 3 शिक्षक अध्यापन कार्य करा रहे हैं।

    कक्षा 9 से लेकर 12 तक शाला में 367 विद्यार्थी दर्ज हैं। ऐसे में 4 कक्षाओं को तीन शिक्षक कैसे पढ़ाएंगे? वह भी जब तब आने वाले दिनों में बच्चों को वार्षिक परीक्षा देना होगा। शिक्षक मोहनसिंह का कहना है कि स्टॉफ की कमी के कारण दिक्कत हो रही है। 3 रेग्यूलर शिक्षक पढ़ा रहे हैं,लेकिन जिस क्लॉस में शिक्षक नहीं जाते वहां बच्चे ही आपस में पढ़ाई करते हैं।

    इसी प्रकार ग्राम चिराखान के माध्यमिक शाला की 3 कक्षाओं में 195 बच्चों को 2 शिक्षक संभाल रहे हैं। शाला में 4 अतिथि शिक्षकों सहित कुल 6 शिक्षक पदस्थ हैं। अतिथि शिक्षकों के हड़ताल पर जाने के कारण अध्यापन का कार्य प्रभावित हो रहा है। प्रभारी प्रधानपाठक गुलाबसिंह ने बताया कि अतिथि शिक्षकों के हड़ताल पर जाने से तीन क्लास के 195 बच्चों को 2 शिक्षकों द्वारा संभालना मुश्किल हो रहा है।

    बच्चे हो रहे चिंतित

    स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के सामने सबसे बड़ी समस्या यह है कि अगले माह से बोर्ड क्लास की परीक्षा शुरू होना है। ऐसे में परीक्षा से पहले अतिक्षि शिक्षकों की हड़ताल के कारण उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है। स्कूल में पदस्थ नियमित शिक्षकों में से एक-एक शिक्षक भी अन्य कामों में लगा रहता है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि बच्चों को कैसे पढ़ाया जाए।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी