Naidunia
    Wednesday, January 18, 2017
    PreviousNext

    कान्हा में जीरो डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा तापमान

    Published: Sat, 14 Jan 2017 08:51 PM (IST) | Updated: Sat, 14 Jan 2017 08:51 PM (IST)
    By: Editorial Team

    मंडला। इस सीजन में अब ठंड अपने चरम पर पहुंच गई है। पिछले दिनों से ठंड नित नए रिकार्ड बना रही है। अपने ही रिकार्ड को तोड़ने पर ठंड आमादा है। शनिवार को भी तापमान इस सीजन का सबसे निचले स्तर पर रहा। न्यूनतम तामपमा जहां आधा डिसे गिरकर 3 डिसे पर पहुंच गया वहीं कान्हा नेशनल पार्क में तापमान 0 डिग्री पर आ गया। यहां एक दिन पूर्व ही न्यूनतम तापमान 0.2 डिसे दर्ज किया गया था।

    तापमान में गिरावट का असर जनजीवन पर पड़ रहा है। लोगों की दिनचर्या जहां देर से प्रारंभ हो रही है तो वहीं जल्द खत्म भी हो रही है। देर शाम होते ही ठंड का प्रकोप बढ़ने के साथ ही जल्द अपने घरों को लौट रहे हैं। शनिवार को भी दिनभर शीतलहर चलती रही। सुबह से ही शरीर को गलाने वाली ठंड का असर रहा। चंद लोग ही सुबह के समय सैर करते दिखाई दे रहे हैं।

    धूप का असर नहीं रहा

    इस वर्ष ठंड अधिक नहीं पड़ रही थी। लोग मान रहे थे कि अब ठंड का असर इस बार गतवर्ष की तरह नहीं होगा। मकर संक्रांति आते आते ठंड ने अपना असर दिखाया और पारा अपने सबसे नीचे की पायदान पर पहुंच कर अपनी उपस्थिति जता दी। अत्याधिक ठंड से अब लोग ठिठुर रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि मकर सकं्राति के बाद ठंड तिल तिल कर कम होती जाती है। बस इसी उम्मीद से अब लोग हैं। जल्द इस ठंड से निजात पाने आतुर हैं। शनिवार को दिनभर शीतलहर चलती रही और धूप का असर नहीं पड़ा। सूर्यदेव की प्रखरता नहीं रही।

    अलाव बने सहारा

    बाहर पढ़ने वाले और नौकरी करने वीकएंड पर अपने घरों का आते हैं और वापस दूसरे दिन गंतव्य को जाते है। वहीं मकर संक्रांति के अवसर पर लोग अपने घर दूर दूर से आए थे। अब ये यात्री भी वापस लौट रहे हैं। बस स्टेंड में यात्रियों के लिए अलाव जलाए गए हैं। गरीब वर्ग, जिनके पास कम कपड़े थे। उनके लिए बस स्टेंड का पास जल रहा अलाव ही सहारा बना। वहीं शहर में कई स्थानों पर अलाव जलते रहे। जो लोगों के लिए इस ठंड से राहत दिलाने में असरकारक रहे।

    मेढ़ा में जम रही ओस

    मोतीनाला क्षेत्र के मेढ़ा में ठंड का असर बहुत अधिक है। बीते तीन दिनों से यहां अधिक ठंड पड़ रही है। गिर रही ओस की बूंदे बर्फ के रूप में जम रही हैं। शनिवार को सुबह भी जब लोग जागे। तो पियारा में और मैदानों में खास के ऊपर ओस बर्फ बन चुकी थी। जो धूप में चमक रही थी।

    मंडला में आधा डिसे गिरकर 3 डिसे पर अटका पारा, मेढ़ा में जमीं ओस की बूंदें

    14एमडीएल26 मंडला। दिन में भी लोग आग तापते रहे।

    14एमडीएल27 मंडला। मैदान में जमा ओस बन गई बर्फ।

    और जानें :  # temprature # kanha
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी