Naidunia
    Thursday, September 21, 2017
    PreviousNext

    राष्ट्रपति चुनाव : MP में पहला और आखिरी वोट मीरा कुमार को

    Published: Mon, 17 Jul 2017 08:56 PM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 09:37 AM (IST)
    By: Editorial Team
    voting 17 07 2017

    भोपाल। राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार को मध्यप्रदेश विधानसभा के समिति कक्ष में मतदान हुआ। पहला और आखिरी वोट विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को मिला। मतदान की शुरुआत सुबह दस बजे नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह से हुई तो आखिरी वोट बसपा के बलवीर दंडोतिया ने डाला।

    भाजपा की ओर से पहला वोट नरेंद्र सिंह कुशवाह और आखिरी कैलाश विजयवर्गीय का रहा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने आगे-पीछे मतदान किया। मतदान के लिए सुबह से ही लंबी कतार लग गई थी।

    प्रदेश में राष्ट्रपति चुनाव के लिए 230 विधायकों में से 228 ने वोट डाले। संसदीय कार्यमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा अयोग्य करार दिए जाने के कारण वोट नहीं डाल पाए। जबकि, चित्रकूट सीट प्रेम सिंह के निधन की वजह रिक्त है। पहले घंटे में 84, दूसरे तक 164 और तीसरे घंटे तक 225 विधायकों ने मतदान किया। आखिर वोट तीन बजे बलवीर दंडोतिया ने डाला।

    मतदान चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक धरमपाल, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह, सहायक निर्वाचन अधिकारी एपी सिंह और पीएन विश्वकर्मा की निगरानी में हुआ। वहीं, भाजपा की ओर से मंत्री उमाशंकर गुप्ता और कांग्रेस की तरफ से रामनिवास रावत, बाला बच्चन और विक्रम सिंह मतदान केंद्र में चुनाव एजेंटे के तौर पर मौजूद रहे। मतपेटी सोमवार को विमान से दिल्ली ले जाई जाएगी। मतगणना 20 जुलाई को होगी।

    बाहर ही रखवा लिए मोबाइल

    निर्वाचन आयोग के निर्देश पर विधायकों से मोबाइल और पेन मतदान केंद्र के बाहर ही रखवा लिए गए। विधान परिषद हॉल में इसके लिए व्यवस्था बनाई गई थी। लिफाफे में फोन और पेन रखकर टोकन दिए गए।

    सुबह साढ़े आठ बजे पहुंच गए थे कुशवाह

    कुशवाह ने बताया कि सबसे पहले मतदान करने के लिए वे सुबह साढ़े आठ बजे विधानसभा पहुंच गए थे। लाइन में सबसे पहले लगे और पार्टी की ओर से पहला वोट भी उन्होंने ही डाला।

    विधायकों के अलावा प्रवेश पर प्रतिबंध

    मतदान स्थल पर विधायकों के अलावा किसी को प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई। सुरक्षा व्यवस्था इतनी तगड़ी थी कि मुख्यमंत्री के चुनिंदा सुरक्षाकर्मियों के अलावा किसी को प्रवेश नहीं करने दिया गया। इसके कारण सदन की दीर्घाएं भी पहले दिन खाली रहीं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें