Naidunia
    Wednesday, September 20, 2017
    PreviousNext

    नकल के आरोपी 278 में से 272 की परीक्षा निरस्त

    Published: Sun, 17 Sep 2017 10:18 PM (IST) | Updated: Sun, 17 Sep 2017 10:18 PM (IST)
    By: Editorial Team

    ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    जीवाजी यूनिवर्सिटी ने बीए,बीकॉम, बीएससी, लॉ, बीसीए, एमए सहित अन्य परीक्षाओं में नकल के आरोपी 278 में से 272 छात्रों की संबंधित विषय की परीक्षा निरस्त कर दी है। अनुचित साधन निराकरण समिति की अनुशंसा पर जेयू ने यह निर्णय लिया है। इस सख्ती से छात्र चिंता में है। जेयू ने इस निर्णय से संबंधित कॉलेजों को अवगत करा दिया है। जेयू की परीक्षाओं में पर्यवेक्षकों की ओर से नकल प्रकरण तैयार किए थे। उन्हें अनुचित साधन निराकरण समिति को भेजा था। समिति ने अलग-अलग दिनों में सुनवाई कर छात्रों को अपना पक्ष रखने का अवसर दिया था। लेकिन ज्यादातर छात्र अनुपस्थित थे। इसलिए ऐसे छात्रों के संबंध में एकतरफा निर्णय लेकर उनकी उस विषय की परीक्षा निरस्त कर दी जिसमें नकल पकड़ी गई थी। जिन छात्रों ने अपना पक्ष रहा लेकिन वे यह साबित करने में सफल नहीं हो सके कि उन्होंने नकल नहीं की। इसलिए ऐसे छात्रों की परीक्षा भी निरस्त कर दी। परीक्षा नियंत्रक राकेश कुशवाह ने कॉलेज संचालकों व छात्रों को इस कार्रवाई से अवगत करा दिया।

    प्रो. गर्ग की मौत, फिर भी जेयू ने बना दिया सदस्य

    कॉलेजों की गर्वनिंग बॉडी गठित करने में जीवाजी यूनिवर्सिटी की एक बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। जेयू ने श्योपुर कॉलेज ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज श्योपुर की गवर्निंग बॉडी में प्रो. आरजी गर्ग का नाम शामिल किया है। जबकि श्री गर्ग का पांच माह पहले निधन हो चुका है। खास बात यह है कि प्रो. गर्ग जेयू में ही लाइब्रेरी साइंस के ही प्रोफेसर थे। जेयू ने यह बॉडी बीएड कॉलेजों के लिए गठित की है।

    और जानें :  # ufm ufm
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें