Naidunia
    Monday, February 20, 2017
    PreviousNext

    सीएम ने अपने खेत में 50 बॉक्सों के साथ शुरू किया मधुमक्खी पालन

    Published: Fri, 17 Feb 2017 07:56 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 07:56 AM (IST)
    By: Editorial Team

    पेज 13 सेकंड लीड

    - सीएम शिवराजसिंह चौहान गुरूवार की शाम को बैस स्थित खेत पर पहुंचे, मधुमक्खी पालन का लिया जायजा

    फोटो 11

    विदिशा। मधुमक्खी पालन केन्द्र का जायजा लेने से पहले मास्क पहने सीएम एवं उनकी पत्नी।

    विदिशा। सीएम शिवराजसिंह चौहान ने अपने बैस स्थित खेत पर मधुमक्खी पालन शुरू कर दिया है। गुरुवार की शाम को विदिशा पहुंचे चौहान ने पत्रकारों को बताया कि पहले चरण में 50 बॉक्सों के साथ मधुमक्खी पालन शुरू किया है। उन्होंने कहा कि मधुमक्खी पालन किसानों की आय का अतिरिक्त जरिया बनेगा।

    सीएम चौहान गुरुवार की शाम करीब 6 बजे अपनी पत्नी साधनासिंह के साथ बैस स्थित खेत पर पहुंचे। यहां कुछ देर फसलों का जायजा लेने के बाद वे छीरखेड़ा स्थित फार्महाउस पर भी पहुंचे। यहां से लौटने के बाद उन्होंने बैस स्थित खेत पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिए लगातार प्रयोग कर रहे हैं। ग्रीन हाउस, पाली हाउस, गौपालन और फल-फूल की खेती के बाद उन्होंने मधुमक्खी पालन शुरू किया है। उनका कहना था कि इन दिनों बाजार में शुद्घ शहद की भारी डिमांड है। मधुमक्खी पालन के जरिए शहद का उत्पादन कर किसान अच्छी आय प्राप्त कर सकता है। उनके मुताबिक मधुमक्खी पालन में काफी कम लागत आती है। इससे कोई भी किसान आसानी से कर सकता है। उन्होंने बताया कि अभी शुरूआती दौर में उन्होंने 50 बाक्स तैयार किए हैं। जिनमें मधुमक्खियों को पाला जाएगा। यह मधुमक्खियां खेत में ही लगे फूलों का रस चूसकर शहद तैयार करेंगी।

    यूपी में भाजपा की सरकार बनना तय

    एक सवाल के जवाब में सीएम चौहान ने कहा कि यूपी चुनाव में भाजपा के पक्ष में माहौल है। यहां पर अगली सरकार भाजपा की ही बनेगी। उन्होंने सपा और कांग्रेस के गठबंधन को प्रभावहीन बताया। हाल ही में पचमढ़ी में हुई भाजपा की कार्यशाला पर उन्होंने कहा कि संगठन की मजबूती के लिए यह अभ्यास वर्ग था। संगठन द्वारा इस तरह के आयोजन समय-समय पर किए जाते हैं। प्रदेश में अफसर शाही हावी होने के सवाल को वे टाल गए।

    नटेरन में सहकारी बैंक के सात समिति प्रबंधकों पर एफआईआर की तैयारी

    नटेरन। जिला सहकारी बैंक नटेरन से संबद्घ आठ समितियों में से सात समितियों के प्रबंधन समितियों का हिसाब-किताब दबाकर बैठे हैं। उन्होंने दो सालों से वित्तीय पत्रक उपलब्ध नहीं कराया है। इन समिति में भारी आर्थिक गड़बड़ी हो सकती है। बैंक आडिटर ने इन मैनेजरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए नटेरन थाने में आवेदन दिया है।

    जानकारी के अनुसार दो दिन पहले 14 फरवरी को सहकारिता विभाग के आडीटर डीके दुबे ने नटेरन थाने में आवेदन देकर प्राथमिक कृषि शाख सहकारी समिति आमखेड़ा सूखा, नटेरन, सेऊ, पमारिया, रावण, बूधोर, नागौर के प्रबंधकों पर एफआईआर दर्ज करने के लिए कहा है। जिला सहकारी बैंक नटेरन के प्रबंधक प्रमोद शर्मा ने बताया कि इन समिति प्रबंधकों ने आडीटर द्वारा मांगे जाने के पर वित्तीय पत्रक उपलब्ध नहीं कराया। इस कारण आडीटर दुबे ने मध्यप्रदेश सहकारी सोसायटी अधिनियम 1960 की धारा 76 के अंतर्गत आपराधिक प्रकरण दर्ज कराने का आवेदन प्रभारी को दिया है। जिसमें कहा गया है कि इन समिति प्रबंधकों के खिलाफ आर्थिक अनियमितता का मामला दर्ज किया जाए। प्रावधान के अनुसार 30 जून अर्थात वर्ष समाप्ति के तीन माह के अंदर लेखा जोखा प्रस्तुत किया जाना अनिवार्य था। इन्होंने वित्तीय पत्रक जमा नहीं किया, जिससे शासकीय राजस्व की हानि हो रही है। थाने में आवेदन देने के बाद समिति प्रबंधकों ने 25 फरवरी तक का समय मांगा है। यदि इस समय तक वे पत्रक उपलब्ध नहीं कराते हैं तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हो जाएगी।

    और जानें :  # vidisha news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी