Naidunia
    Tuesday, December 12, 2017
    PreviousNext

    बिजनौर के और 20 संदिग्ध एटीएस के निशाने पर

    Published: Fri, 21 Apr 2017 07:40 PM (IST) | Updated: Fri, 21 Apr 2017 07:44 PM (IST)
    By: Editorial Team
    terrorist 21 04 2017

    बिजनौर । उत्तर प्रदेश के बिजनौर में आतंकियों के बड़े नेटवर्क की आशंका के चलते खुफिया एजेंसियों की जांच में और तेजी आ गई है। एटीएस की रडार पर आए बीस और संदिग्धों के बारे में गहन छानबीन की जा रही है। मुफ्ती फैजान से पूछताछ में मिले कई अहम सुराग के आधार पर एटीएस जल्द बड़े पैमाने पर छापामारी कर सकती है।

    आतंकी गतिविधियों में लंबे अरसे से बिजनौर के लोग संलिप्त रहे हैं और कई बार पकड़े भी जा चुके हैं। गुरुवार को लगातार 16 घंटे एटीएस की ताबड़तोड़ कार्रवाई से फिर साबित हो गया है कि यहां आतंकी बहुत गहरे तक जड़ जमा चुके हैं।

    एटीएस कई माह से यहां जाल बिछाए हुए था। संदिग्धों की निगरानी की जा रही थी। गुरुवार को जिले से दबोचे गए पांच संदिग्ध आतंकियों में से मुफ्ती फैजान से एटीएस को अहम सुराग मिले हैं। इसके आधार पर 20 संदिग्धों के बारे में गहराई से पता किया जा रहा है। एटीएस सूत्रों के अनुसार, फैजान ने कई लोगों को अपने साथ जोड़ा है और उसकी जड़ें मुंबई तक हैं।

    गौरतलब है कि यूपी एटीएस और चार राज्यों की जांच टीमें बिजनौर में गुरुवार देर शाम तक छापामारी करती रहीं। मुंबई से उमर उर्फ नाजिम की गिरफ्तारी के बाद जिले में छह संदिग्धों को निशाने पर लिया गया था। प्राथमिकता पर मुफ्ती फैजान व कारी तनवीर ही थे। इसीलिए, एटीएस ने सबसे पहले बढ़ापुर की मस्जिद पर छापा मारकर फैजान और तनवीर को दबोचा। पूरा नेटवर्क खड़ा करने में फैजान की ही मुख्य भूमिका बताई जाती है।

    नहटौर का है मुंबई से गिरफ्तार उमर

    आइएस की आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता के शक में मुंबई के मुमरा से एटीएस द्वारा गिरफ्तार उमर उर्फ नाजिम नहटौर के मोहल्ला तकिया गढ़ी (पश्चिम) का रहने वाला है। नाजिम का पिता शमशाद अलवी राज मिस्त्री है।

    परिजनों को उसकी गिरफ्तारी की जानकारी गुरुवार देर शाम उस वक्त हुई, जब एटीएस ने नाजिम से मोबाइल नंबर लेकर शमशाद को फोन किया। पांच बहनों व तीन भाइयों में नाजिम दूसरे नंबर का है। 2015 में टंकी फिटिग करने के वीजा पर 14 माह के लिए वह सऊदी गया था।

    वहां से लौटने के बाद मुंबई चला गया और आइसक्रीम बेचने लगा। कुछ माह पहले वह घर आया था और तीन मार्च को फिर मुंबई चला गया। एटीएस ने नहटौर के ही एक बिजनेसमैन को भी नाजिम के कमरे से पकड़ा था, लेकिन एक घंटे पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया। कक्षा सात तक पढ़ा नाजिम मल्टी मीडिया फोन का इस्तेमाल करता है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें