Naidunia
    Thursday, May 25, 2017
    PreviousNext

    सीएम योगी बोले, RSS न होती तो पाक में होते बंगाल, पंजाब और कश्मीर

    Published: Sat, 20 May 2017 08:28 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 09:29 AM (IST)
    By: Editorial Team
    cm yogi 2017520 9296 20 05 2017

    नई दिल्ली। संघ की लगातार आलोचना करने वालों को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निशाने पर लिया है। उन्होंने कहा है कि अगर आरएसएस नहीं होती तो पंजाब, पश्चिम बंगाल और कश्मीर पाकिस्तान के कब्जे में होते। उन्होंने आगे कहा कि संघ दुनिया का अकेला ऐसा संगठन है तो सरकार से सहायता नहीं लेता लेकिन हर बार विपक्ष के निशाने पर होता है।

    सीएम योगी ने विधानसभा में राज्यपाल राम नाइक के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा के जवाब में कहा, 'अगर आरएसएस और डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी (भारतीय जनसंघ के संस्थापक) न होते तो पश्चिम बंगाल, पंजाब और कश्मीर ... पाकिस्तान के कबजे में होते।'

    उन्होंने आगे कहा कि ऐसे संगठनों पर चर्चा करना गलत है, जिनका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। आरएसएस ही एकमात्र ऐसा संगठन है, जो सरकार से कोई मदद नहीं लेता है।

    उन्होंने कहा, 'कुछ लोग राष्ट्रीय गीत को सांप्रदायिकता से जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। अगर आरएसएस नहीं होता तो लोग स्कूलों में वंदे मातरम गाने को भूल गए होते। उन्होंने कहा कि आरएसएस द्वारा 64,000 शैक्षणिक संस्थान चलाए जा रहे हैं।

    गंगा और यमुना में जल स्तर कम होने पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'गंगा और यमुना हमारी पहचान हैं और यदि यह खत्म हो गयी तो, देश और इसकी संस्कृति समाप्त हो जाएगी।'

    सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानभवन में सदन की कार्यवाही के दौरान सीटी बजाने के साथ ही राज्यपाल पर कागज के गोले बनाकर फेंकने की घटना की निंदा की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन में खराब कानून-व्यवस्था पर अपना जवाब दिया।

    विधानसभा में राज्यपाल राम नाईक के अभिभाषण पर कागज के गोले फेंके जाने के साथ ही विपक्ष के आरोपों और हंगामों पर सीएम योगी ने सदन में पलटवार किया। सीएम योगी ने विपक्ष के कागज के गोले फेंके जाने की कड़ी आलोचना करने के साथ ही विपक्ष को आड़े हाथों लिया।

    सीएम योगी ने सदन में विपक्ष के तमाम आरोपों का जवाब देते हुए राज्यपाल राम नाईक के अभिभाषण के दौरान हुई घटना पर कड़ी आपत्ति दर्ज करायी। उन्होंने कहा कि राज्यपाल का अभिभाषण प्रदेश की सरकार का विजन डॉक्यूमेंट होता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह अलग बात है कि विपक्ष ने इसमें रूचि नहीं ली।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी