Naidunia
    Wednesday, October 18, 2017
    PreviousNext

    कंधार विमान अपहरण के दोषी की याचिका सुनेगा सुप्रीम कोर्ट

    Published: Fri, 21 Apr 2017 08:45 PM (IST) | Updated: Fri, 21 Apr 2017 09:40 PM (IST)
    By: Editorial Team
    supreme court 21 04 2017

    नई दिल्ली। कंधार विमान अपहरण मामले के दोषी की याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट सहमत हो गया है। पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सर्वोच्च अदालत के समक्ष दो अपील दायर की गईं।

    एक मामले में सह साजिशकर्ता अब्दुल लतीफ मोमिन ने खुद को मिली सजा का विरोध किया है तो दूसरी अपील सीबीआइ के जरिये पंजाब सरकार ने दायर की, जिसमें यूसुफ नेपाली को बरी करने पर सवाल उठाया गया है। जस्टिस पीसी घोष व आरएफ नरीमन की बेंच ने शुक्रवार को कहा कि वह मामले की नियमित सुनवाई करेगी।

    मोमिन ने अपनी याचिका में कहा है कि उसके खिलाफ ऐसा कोई साक्ष्य पेश नहीं किया गया जो उसे विमान अपहरण मामले का दोषी ठहरा सके। उसका कहना है कि वह पिछले 17 साल से जेल में है।

    30 दिसंबर 1999 के बाद उसे कभी पैरोल पर भी नहीं रिहा किया गया। यही नहीं उसने जो बयान दिया उसे भी अदालत ने स्वीकार नहीं किया। उसे आजीवन कारावास की सजा दी गई।

    मामले के अनुसार इंडियन एयरलाइंस की काठमांडू से दिल्ली आने वाली फ्लाइट आइसी-814 का 24 दिसंबर 1999 को अपहरण किया गया था। उस दौरान इसमें 179 यात्री व 11 क्रू मेंबर थे। पांच अपहर्ता फ्लाइट को अफगानिस्तान के कंधार इलाके में ले गए। ये सारे अभी तक फरार हैं।

    अपहर्ताओं ने रुपेन कत्याल की हत्या के बाद भारत सरकार से बातचीत शुरू की और यहां की जेल में बंद आतंकी मसूद अजहर अल्वी, सैयद उमर शेख व मुश्ताक अहमद जरगर की 31 दिसंबर को बंधकों से अदला बदली की।

    मुंबई में रहने वाले मोमिन व नेपाल निवासी यूसुफ नेपाली के साथ एक अन्य आरोपी भारत के दिलीप कुमार भुजैल को पटियाला स्थित विशेष अदालत ने 5 फरवरी 2008 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

    पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट में इस फैसले के खिलाफ नेपाली व भुजैल ने याचिका दायर की तो बेंच ने 25 आर्म्स एक्ट को छोड़कर बाकी सभी धाराओं में सुनाई गई दोनों की सजा को निरस्त कर दिया। मोमिन को दी गई सजा को हाई कोर्ट ने बहाल रखा था।

    हालांकि सीबीआइ ने यह कहकर उसके लिए फांसी की मांग की थी कि जांच में उसके संपर्क पाकिस्तानी आतंकी संगठन हरकत उल मुजाहिद्दीन से पाए गए।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें