Naidunia
    Friday, September 22, 2017
    Previous

    महिलाओं में बार टेंडर बनने की अनिच्छा अफसोसजनक

    Published: Mon, 20 Mar 2017 11:20 PM (IST) | Updated: Mon, 20 Mar 2017 11:23 PM (IST)
    By: Editorial Team
    shatthi basu 20 03 2017

    कोलकाता। देश की पहली महिला बार टेंडर शतभी बसु ने भारतीय महिलाओं की इस पेशे से जुड़ने को लेकर उदासीनता पर अफसोस जताया है। कोलकाता में एक गैस्ट्रो-पब की लांचिंग के मौके पर शतभी ने कहा, "भारतीय महिला बार टेंडरों की संख्या अभी भी बेहद कम है। इस बात को याद रखना चाहिए कि महिलाएं भी समाज का हिस्सा हैं। हमारे अनुसार ही समाज को भी बदलना होगा।"

    महिला बार टेंडरों की सुरक्षा के बारे में शतभी ने कहा कि बार टेंडर बाउंसरों से बेहतर होते हैं। आपका व्यक्तित्व ही आपके प्रति दूसरों का व्यवहार तय करता है। मैं मुंबई में रहती हूं, लेकिन मैंने पूरे देश का दौरा किया है।

    मुझे कहीं भी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली। 21 साल की उम्र में बार टेंडर बनने वाली शतभी ने कहा कि शुरू में मैं चीनी पकवानों की बावर्ची बनना चाहती थी, लेकिन मुंबई के एक बार से जुड़ गई।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें