Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    आरुषि हत्याकांड: जेल में रोज इतने रुपए कमा रहे थे तलवार दंपती

    Published: Fri, 13 Oct 2017 11:53 AM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 12:36 PM (IST)
    By: Editorial Team
    nupur talwar 20171013 12504 13 10 2017

    नोएडा। आरुषि-हेमराज हत्याकांड में बरी किए जाने के बाद तलवार दंपती ने राहत की सांस ली है। हालांकि यह सवाल अभी भी बना हुआ है कि आखिर इस हत्याकांड को किसने अंजाम दिया।

    बहरहाल, एक वक्त राजेश और नुपूर तलवार नोएडा के जाने-माने डेंटिस्ट थे, लेकिन 2008 के बाद ऐसा दौर भी आया, जब इन्हें बेटी की हत्या का दोषी मानते हुए सलाखों के पीछे डाल दिया गया।

    तब सीबीआई की कोर्ट ने तलवार दंपती को बेटी के साथ ही अपने नौकर की हत्या के लिए उम्र कैद सुनाई थी। सजा के ऐलान के बाद दोनों को 2013 में गाजियाबाद की डासना जेल भेज दिया गया था। यहां दोनों को उनकी योग्यता के हिसाब से काम दिया गया था।

    डॉक्टर तलवार को जेल की मेडिकल टीम का सहायक बनाया गया था, जबकि नुपूर को टीचर का काम सौंपा गया था। राजेश कैदियों के दांतों का इलाज करते थे, जिसके ऐवज में उन्हें हर रोज 40 रुपए यानी 1200 रुपए महीना मिलते थे।

    इसी तरह नुपूर को भी जेल में महिलाओं को पढ़ाने के बदले 40 रुपए रोज मिलते थे। दोनों को सुबह 10 से शाम 5 बजे तक काम करना होता था। रविवार को अवकाश रहता था।

    मालूम हो, 16 मई 2008 को तलवार दंपती की इकलौती संतान 13 वर्षीय आरुषि अपने बैडरूम में मृत पाई गई थी। उसका गला रेता गया था। शुरू में घर में काम करने वाले नौकर हेमराज पर शक किया गया, लेकिन अगले दिन छत पर उसकी भी लाश मिली।

    हाईप्रोफाइल केस होने के कारण जबरदस्त मीडिया कवरेज हुआ। 2013 में सीबीआई की अदालत ने तलवार दंपती को दोषी करार दिया था। हालांकि हलाहाबाद हाई कोर्ट ने अब दोनों को बरी कर दिया है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें