Naidunia
    Monday, October 23, 2017
    PreviousNext

    रानी पद्मावती की खूबसूरती के बारे में ये रोचक बात नहीं जानते होंगे आप

    Published: Fri, 13 Oct 2017 03:04 PM (IST) | Updated: Tue, 17 Oct 2017 01:55 PM (IST)
    By: Editorial Team
    rani padmavati 13 10 2017

    मल्टीमीडिया डेस्क। चित्तौड़ की रानी पद्मवती की बेपनाह खूबसूरती और जौहर व्रत लेने की कहानी आज भी कही जाती है। उन पर बनी फिल्म को लेकर आजकल हर व्यक्ति चर्चा कर रहा है। इस बहाने आज हम आपको बताने जा रहे हैं, उनकी जिंदगी से जुड़ी कुछ अनसुने तथ्य...

    रानी पद्मावती को रानी पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है। वह 13-14 शताब्दी की एक महान भारतीय रानी थी। मलिक मुहम्मद जयासी ने महाकाव्य कविता पदमावत में सिंघल साम्राज्य की एक असाधारण सुंदर राजकुमारी का वर्णन किया है। चित्तौड़ के राजा रतन सेन को रानी की सुंदरता के बारे में बोलने वाले एक तोते हीरामन से पता चला था, जिसके बाद उन्होंने पद्मावती से शादी कर ली।

    वह रतन से की दूसरी पत्नी थीं। कहा जाता है कि वह बचपन में बोलने वाले एक तोते हीरामन की करीबी दोस्त बन गईं। जब पद्मिनी के पिता राजा गंधर्व सेन को बेटी और हीरामन के करीबी रिश्ते का पता चला, तो उन्होंने तोते को जान से मारने का आदेश दिया। हालांकि, हीरामन वहां उड़ने में कामयाब हो गया और एक बहेलिये ने उसे पकड़कर एक ब्राह्मण को बेच दिया। उसके बाद रतन सेन ने ब्राह्मण से तोते खरीद लिया।

    राघव चेतन चित्तौड़ के शाही दरबार में बैठते थे और राजा रतन सेन ने धोखाधड़ी करने पर उन्हें निकाल दिया था। उन्होंने ही रानी पद्मावती के बारे में दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी को बताया था, जिसके बाद खिलजी ने पद्मावती से मिलने का फैसला किया।

    अल्लाउद्दीन खिलजी ने रानी पद्मिनी को पाने के लिए रतन सेन का अपहरण कर लिया। जब रतन सेन ने रानी पद्मिनी को देने से इंकार कर दिया, तो खिलजी ने रतन सेन को शांति संधि का धोखा दिया और उसे दिल्ली ले गया। बाद में रानी पद्मिनी ने राजा रतन सेन की भरोसेमंद सामंतों से मदद ली और उन्हें दिल्ली से बचा लिया।

    इस बीच जब राजा रतन सेन दिल्ली से बचकर भाग रहे थे, तो कुंभालनेर के राजपूत राजा देवपाल ने रानी पद्मावती को शादी के लिए प्रस्ताव दिया। जब राजा रतन सेन वापस चित्तौड़ आए और उन्हें देवपाल की इस हरकत के बारे में पता चला, तो उन्होंने देवपाल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

    दोनों के बीच हुए युद्ध में राजा देवपाल और रतन सेन दोनों ने एक दूसरे की हत्या कर दी। रतन सेन की मौत के बाद अलाउद्दीन खिलजी ने एक बार फिर चित्तौड़ पर हमला कर उसे जीतने की कोशिश खी। मगर, रानी ने इस बार जौहर व्रत (जिंदा आग में कूद जाना) ले लिया। उनके साथ राजमहल की हजारों वीरांगनाओं ने अपनी जान दे दी। खिलजी के हाथ में राख के अलावा कुछ नहीं आया।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें