Naidunia
    Saturday, December 16, 2017
    PreviousNext

    साइकिल से 9 महीने खोजता रहा पत्नी, जब मिली तो...

    Published: Wed, 16 Nov 2016 01:00 PM (IST) | Updated: Wed, 16 Nov 2016 01:02 PM (IST)
    By: Editorial Team
    search-missing-wife 16 11 2016

    मेरठ। कहते हैं खोजने पर तो भगवान भी मिल जाता है, इंसान क्या चीज है। कुछ ऐसा ही हुआ मेरठ के रहने वाले तपेश्वर सिंह के साथ। आखिरकार नौ महीनों की मेहनत के बाद में उन्होंने अपनी खोई हुई पत्नी बबीता को ढूंढ ही निकाला।

    मार्च में जब तपेश्वर सिंह लापता हो गई पत्नी बबीता की खोज में निकले, तो उन्हें पता नहीं था कि उन्हें बबीता को कहां ढूंढना है। मगर, उम्मीद थी कि वह जल्द से जल्द मिल जाएगी। उनकी शादी तीन साल पहले ही हुई थी। दरअसल, ब्रजघाट के जिस धर्मशाला में सिंह ठहरे थे वहीं, बबीता के रिश्तेदार उसे छोड़ गए थे।

    इसी दौरान सिंह की बबीता से मुलाकात हुई। इसके बाद में सिंह ने बबीता से शादी कर ली। सबकुछ ठीक चल रहा था, लेकिन एक दिन अचानक बबीता कहीं गायब हो गई। इसके बाद में 40 साल के तपेश्वर सिंह ने साइकल पर पत्नी की तस्वीर लगाई और निकल पड़े अपने प्यार को तलाश करने।

    नोटबंदी से आतंकियों और माओवादियों का खजाना खाली

    मूल रूप से बिहार के रहने वाले तपेश्वर सिंह पिछले कई सालों से मेरठ में रह रहे हैं। तपेश्वर ने प्रतिज्ञा ली थी कि वह अपनी लापता पत्नी को ढूंढ कर रहेंगे। वह घंटों साइकल चलाते रहे, बिना पैसों के कई बार ऐसी स्थिति आई कि उन्हें खाने पीने तक को नहीं मिला।

    इस बीच सिंह को पता चला कि मेरठ के एक दलाल ने बबीता को सड़क पर भटकते देखकर किसी कोठे पर बेच दिया। इसके बाद में तपेश्वर ने इलाके के सभी वेश्यालयों में जाकर बबीता की तलाश की। बबीता तो नहीं मिली, लेकिन पता चला कि बेचने की कोशिश तो की थी, लेकिन मानसिक स्थिति खराब होने के कारण डील नहीं हुई थी।

    पहले पैदा होने के बावजूद छोटा भाई कैसे हो गया यह लड़का

    इस मामले में एफआईआर दर्ज की गई और पुलिसवालों ने भी तपेश्वर की मदद करने का भरोसा दिलाया। मगर, नतीजा सिफर ही रहा। आखिरकार 14 अक्टूबर को हरिद्वार में सड़क किनारे तपेश्वर को बबीता मिल गई। वह फटे-पुराने कपड़ों में लिपटी थी।

    सिंह ने बताया कि पिछले एक दशक में जो भी कुछ कमाया और बचाया था, बबीता की तलाश में वह खर्च हो गया। बबीता को नहीं पता कि वह हरिद्वार कैसे पहुंच गई। मगर, उसे यह पता है कि वह भी अपने पति की तलाश कर रही थी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें