Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    संप्रग सरकार ने सेंसर बोर्ड का किया राजनीतिकरण

    Published: Sat, 17 Jan 2015 08:32 PM (IST) | Updated: Sat, 17 Jan 2015 08:33 PM (IST)
    By: Editorial Team
    jaitley 17 01 2015

    नई दिल्ली। सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष और सदस्यों के इस्तीफे पर पलटवार करते हुए सूचना व प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने संप्रग सरकार पर तीखा पलटवार किया है।

    संप्रग सरकार पर सेंसर बोर्ड के राजनीतिकरण का आरोप लगाते हुए जेटली ने कहा कि उन्होंने या उनके कनिष्ठ मंत्री ने बोर्ड के किसी भी सदस्य से कभी कोई संपर्क नहीं किया। बोर्ड में व्याप्त भ्रष्टाचार के आरोपों पर आश्चर्य जताते हुए उन्होंने कहा कि इसके अध्यक्ष या सदस्यों ने उनसे इस संबंध में कोई संपर्क नहीं किया।

    गौरतलब है कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की फिल्म "मैसेंजर ऑफ गॉड" (एमएसजी) को फिल्म सर्टीफिकेशन अपीलीय ट्रिब्यूनल (एफसीएटी) से रिलीज की मंजूरी मिलने के विरोध में सेंसर बोर्ड की प्रमुख लीला सैम्सन और नौ सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया है।

    संप्रग सरकार के कार्यकाल में नियुक्त अध्यक्ष और सदस्यों के आरोपों पर हैरानी जताते हुए जेटली ने कहा कि यदि बोर्ड की बैठक नहीं होती थी तो इसके लिए वे खुद जिम्मेदार है। बोर्ड की बैठक बुलाने की जिम्मेदारी मंत्रालय के सचिव या मंत्री की नहीं होती है। जेटली के अनुसार इस्तीफे के बाद सैम्सन व अन्य सदस्य बोर्ड में भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं, लेकिन इस संबंध में उन्हें एक बार भी सूचित क्यों नहीं किया?

    ट्रिब्यूनल द्वारा एमएसजी के प्रदर्शन को हरी झंडी देने के फैसले को जेटली ने सही ठहराया। उन्होंने कहा है कि सेंसर बोर्ड के फैसले के खिलाफ आदेश देना ट्रिब्यूनल के अधिकार क्षेत्र में आता है। संप्रग सरकार पर अपीलीय ट्रिब्युनल के भी राजनीतिकरण का आरोप लगाते हुए जेटली ने कहा कि राजग सरकार आने के बाद पहली बार ईमानदार छवि वाले पूर्व न्यायाधीश को इसका अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

    जेटली ने संप्रग पर पलटवार करते हुए कहा कि 2004 में अनुपम खेर जैसे अनुभवी अभिनेता को सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पद से सिर्फ इसलिए हटा दिया गया था, क्योंकि उन्हें राजग सरकार ने नियुक्त किया था। लेकिन नई राजग सरकार ने ऐसा करना उचित नहीं समझा।

    गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष लीला सैम्सन के इस्तीफे के बाद उसके नौ सदस्यों ने भी इस्तीफा दे दिया है। इनमें कांग्रेस सचिव पंकज शर्मा, शाजी करुण, ममंग दई, ईरा भास्कर, टीवी पत्रकार राजीव मसंद, शुभ्रा गुप्ता, अभिनेत्री अरुंधती नाग, केसी शेखर बाबू, एमके रैना, निखिल अल्वा और लोरा प्रभु शामिल हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें