Naidunia
    Friday, December 15, 2017
    PreviousNext

    कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी माकपा

    Published: Sat, 25 Apr 2015 09:55 PM (IST) | Updated: Sat, 25 Apr 2015 09:57 PM (IST)
    By: Editorial Team
    sitaram-congress-meeting 25 04 2015

    तिरुअनंतपुरम। माकपा ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावना को खारिज कर दिया है। पार्टी ने शनिवार को यह स्पष्ट करते हुए कहा कि भूमि अधिग्रहण, जीएसटी और किसानों की समस्या जैसे मामलों पर संसद में भाजपा नीत राजग सरकार को मजबूर करने के लिए वह कांग्रेस के साथ मुद्दों पर आधारित तालमेल करेगी।

    माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने यहां प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में कहा, "कांग्रेस के साथ कोई गठबंधन नहीं हो सकता क्योंकि यह वही पार्टी है जिसने देश में नव उदारवादी आर्थिक नीतियां शुरू कीं। इसी नीति का भाजपा सरकार जोर शोर से अनुसरण कर रही है।"

    उन्होंने कहा कि कुछ मुद्दों पर कांग्रेस के विरोध को समझना अभी जल्दबाजी होगी। हालांकि भूमि अधिग्रहण और नेट न्यूट्रलिटी के मामले में रुख सकारात्मक है। येचुरी ने कहा कि कांग्रेस ने भूमि मुद्दे पर एक रुख अपनाया है लेकिन हमें यह देखने के लिए इंतजार करना होगा कि वह अपने फैसले पर टिकी रहती है या नहीं।

    इस बारे में उन्होंने कहा कि सरकार बीमा और कोयला के क्षेत्र में कांग्रेस के समर्थन के बिना प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर आगे नहीं बढ़ सकती। राजग सरकार की आलोचना करते हुए येचुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युवकों को आकृष्ट करने के लिए रोचक योजनाओं के साथ आए थे लेकिन कोई पूरी नहीं हुईं। उन्होंने समाजवादियों के एक होने और उनकी पार्टियों के विलय का स्वागत करते हुए इसे सकारात्मक बताया।

    येचुरी ने महासचिव चुनाव पर मतभेद की खबरें खारिज की

    माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने उन खबरों को मीडिया की उपज बताकर खारिज कर दिया कि जिनमें कहा गया था कि पार्टी की केरल इकाई के एक वर्ग ने उन्हें महासचिव बनाने का विरोध किया था। बताया जाता है कि विशाखापत्तनम में 14 से 19 अप्रैल तक चले माकपा के 21वें सम्मेलन में ऐसा हुआ था।

    इस सवाल पर येचुरी ने कहा कि मेरा एक ही शब्द में जवाब है- नहीं। उन्होंने कहा, वह सर्वसम्मत चुनाव था। जब चुनाव हुआ तो मैं सर्वसम्मति से चुना गया। खबरों में कहा गया था कि केरल के नेताओं का एक वर्ग पार्टी के पोलित ब्यूरो के वरिष्ठ सदस्य आर रामचंद्रण पिल्लै को महासचिव बनाने के पक्ष में था।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें