Naidunia
    Wednesday, August 23, 2017
    PreviousNext

    अब ट्रेन के ड्राइवर भी एसी इंजन में बैठकर चलाएंगे ट्रेन

    Published: Thu, 05 Jan 2017 07:31 AM (IST) | Updated: Thu, 05 Jan 2017 08:31 AM (IST)
    By: Editorial Team
    train driver 05 01 2017

    तापस बनर्जी, धनबाद। रेलवे के रनिंग कर्मचारियों के लिए अच्छे दिन आनेवाले हैं। चालक और गार्ड को अब भीषण गर्मी में तपते केबिन में काम नहीं करना होगा। इससे राहत दिलाने के लिए रेल इंजनों को वातानुकूलित केबिन से लैस किया जाएगा। इसके साथ ही देशभर के रनिंग रूम को भी वातानुकूलित करने की मंजूरी दी गई है जहां रनिंग कर्मचारी आराम कर सकेंगे।

    नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवे के साथ हुई रेलवे बोर्ड की स्थायी वार्ता तंत्र (पीएनएम) की बैठक में इस मुद्दे को उठाया गया। बोर्ड की टीम ने फेडरेशन को बताया कि चित्तरंजन रेल कारखाना (चिरेका) और डीजल रेल कारखाना (डीरेका) वाराणसी में वातानुकूलित रेल इंजन का निर्माण शुरू हो गया है।

    दोनों उत्पादन इकाइयों को निर्देश दिया गया है कि अब नए उत्पादन एसी केबिन के साथ ही करें। रनिंग रूम के मामले में बताया गया कि सभी मंडलों में प्रस्तावित नए रनिंग रूम वातानुकूलित होंगे जिसके लिए निर्देश जारी कर दिया गया है। पहले चरण में अधिक नमी वाले शहर और समुद्र तट के निकटवर्ती रनिंग रूम को वातानुकूलित किया जाएगा।

    बाद में सभी स्टेशनों में यह सुविधा बहाल होगी। सीनियर पीआरओ, चित्तरंजन रेल कारखाना मंतार सिंह ने बताया कि चित्तरंजन रेल कारखाना में पहले से ही एसी केबिनयुक्तरेल इंजनों का निर्माण शुरू कर दिया गया है। करीब 12 एसी केबिनयुक्त रेल इंजनों का निर्माण पूरा हो चुका है। रेलवे बोर्ड से लिखित दिशा-निर्देश प्राप्त होने के बाद आगे से जितने रेल इंजनों के निर्माण होंगे सभी एसी केबिनयुक्त होंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें