Naidunia
    Wednesday, August 23, 2017
    PreviousNext

    हिन्‍दू धर्म के खिलाफ नारों के बाद फैला आक्रोश

    Published: Thu, 25 Feb 2016 06:11 PM (IST) | Updated: Thu, 25 Feb 2016 08:06 PM (IST)
    By: Editorial Team
    protest 25 02 2016

    लखनऊ। जाट आरक्षण के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मेरठ के सरधना में कल हिंदू धर्म विरोधी नारे लगाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। विरोध करने वालों के खिलाफ हिंदू संगठनों में जबरदस्त आक्रोश है। उधर इस मामले के आरोपियों की गिरफ्तारी को पुलिस ताबड़तोड़ दबिश दे रही है।

    इस बड़े मामले में अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मामले को लेकर विहिप व बजरंग दल के आक्रोशित कार्यकर्ता आज शाम को विधायक संगीत सोम के आवास पर एकत्र हुए और नारेबाजी करते हुए थाने पहुंचे। उन्होंने सीओ बृजेश कुमार सिंंह का घेराव कर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। सीओ ने 24 घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। जिस पर विहिप के विभाग संगठन मंत्री सुदर्शन चक्र महाराज ने पुलिस को 48 घंटे का अल्टीमेटम देते हुए उग्र आंदोलन की चेतावनी दी।

    मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी देहात डा. प्रवीन रंजन सिंह भी सरधना पहुंच गए। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने नगर अध्यक्ष मुमताज अली के नेतृत्व में थाने पहुंच कर एसपी देहात को ज्ञापन सौंपा और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एसपी देहात का कहना है आरोपियों की तलाश की जा रही है। जो भी सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे का प्रयास करेगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उधर तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए नगर में पीएसी की तैनाती कर दी गई है।

    आगरा में विहिप नेता की हत्या, बवाल

    उधर, आगरा में मंदिर से पूजा कर लौट रहे विश्र्व हिंदू परिषद (विहिप) नेता अरुण माहौर की गोली मारकर हत्या कर दी गई। अस्पताल पहुंचे विहिप नेता और कार्यकर्ताओं ने एमजी रोड पर जाम लगाकर हंगामा किया। पुलिस के लाठीचार्ज करने पर भीड़ ने एसओ से हाथापाई के बाद पथराव कर कई गाड़ियां तोड़ दीं।

    पथराव में एसपी ग्रामीण भी चोटिल हुई हैं। उधर, महिलाएं भी सड़क पर उतर आईं। दहशत में मंटोला का बाजार बंद हो गया। शाम तक पोस्टमार्टम हाउस पर हंगामा चलता रहा। अरुण लगातार गोकशी का विरोध कर रहे थे।

    नाला मंटोला निवासी विहिप के महानगर उपाध्यक्ष अरुण माहौर (50) की मीरा हुसैनी चौराहे पर फर्नीचर की दुकान है। वह परिवार के साथ बोदला में रहते हैं।

    गुरुवार सुबह 10.30 बजे नाला मंटोला स्थित माहौर समाज मंदिर पर पूजा कर पैदल दुकान की ओर लौट रहे थे। नाले के पास ही हमलावरों ने उनके सिर में पीछे से गोली मार दी, जिससे उनकी मौत हो गई। घटना के बाद पुलिस फोर्स और स्वाट टीम के साथ डीआईजी अजय मोहन शर्मा, डीएम पंकज कुमार और एसएसपी डॉ. प्रीतिंदर सिंह मौके पर पहुंचे। हत्या के विरोध में बस्ती की महिलाएं मीरा हुसैनी चौराहे पर आ गईं।

    दो घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी का अल्टीमेटम दिया और सड़क पर बैठ गईं। इसी बीच हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता और बस्ती के लोग एसएन इमरजेंसी पहुंच गए। एमजी रोड जाम कर पथराव किया। इसमें कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं। पकड़ में आए अल्पसंख्यक संप्रदाय के एक युवक की बुरी तरह पिटाई कर दी। उसे बचाने आए एसओ एत्माद्दौला शत्रुंजय से हाथापाई कर वर्दी फाड़ने की कोशिश की गई।

    पथराव में एसपी पश्चिम बबिता साहू घायल हो गईं। कई घंटे बाद शव इमरजेंसी से उठाकर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचाया गया। दोपहर बाद केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री डॉ. रामशंकर कठेरिया भी पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी करने को कहा। अरुण के भाई विनोद कुमार ने बताया कि अरुण गोकशी का विरोध करते थे।

    दो दिन पहले नाला मंटोला निवासी शाहरुख से उनका विवाद हो गया था। इसकी शिकायत उन्होंने मौखिक रूप से थाना कोतवाली में की थी। गुरुवार को बस्ती वालों के साथ लिखित शिकायत करने जाना था। भाई की तहरीर पर नाला मंटोला निवासी राजा, शाहरुख, दिलशान, इम्तयाज और आबिद के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें