Naidunia
    Thursday, June 29, 2017
    PreviousNext

    कांग्रेस के साथ गठबंधन से येचुरी का इंकार

    Published: Sun, 28 Jun 2015 07:46 PM (IST) | Updated: Sun, 28 Jun 2015 07:49 PM (IST)
    By: Editorial Team
    sitaram 28 06 2015

    कोलकाता। माकपा कांग्रेस के साथ मुद्दों के आधार पर सहयोग करने के लिए तैयार है, लेकिन वह संसद के बाहर कांग्रेस के साथ किसी भी तरह का गठबंधन नहीं करेगी। माकपा का कहना है कि अब तक नव उदारवादी नीतियों का अनुसरण करने वाले दल के साथ वह गठबंधन नहीं करेगी।

    माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि हम विशेष मुद्दों पर संसद में और बाहर मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ दूसरी राजनीतिक ताकतों के साथ एकजुट हो सकते हैं। संसद के बाहर हम भूमि अधिग्रहण विधेयक के मुद्दे पर कांग्रेस के साथ राष्ट्रपति के पास गए। विशेष मुद्दों पर हम अन्य राजनीतिक दलों के साथ सहयोग करने के लिए तैयार हैं। लेकिन जब हम कहते हैं, संसद के बाहर नहीं.. तो इसका मतलब है कि कांग्रेस के साथ गठबंधन या मोर्चे पर विचार नहीं किया जा रहा है।

    यह पूछे जाने पर कि जब माकपा विशेष मुद्दों पर कांग्रेस के साथ लड़ने की इच्छुक है तो भाजपा से लड़ने के लिए गठबंधन करने से उसे कौन सी बात रोक रही है, येचुरी ने कहा कि हम गैर कांग्रेस धर्मनिरपेक्ष दलों के साथ एकजुट होने का आह्वान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के भ्रष्टाचार तथा उनकी आर्थिक नीतियों के कारण ही आज भाजपा सत्ता में आई है। जब तक पार्टी उन नीतियों को जारी रखेगी तब तक यह सवाल ही नहीं उठता कि हम उसके साथ कुछ करेंगे। येचुरी ने मोदी सरकार पर किसान विरोधी भूमि विधेयक को आगे बढ़ाने के लिए अड़ियल रवैया अपनाने का आरोप लगाया।

    आइपीएल के पूर्व आयुक्त ललित मोदी को लेकर हाल में उठे विवाद के बारे में उन्होंने पूरे मुद्दे की गहन जांच की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि आईपीएल धनशोधन का एक सबसे बड़ा रास्ता था और अगर मोदी सरकार काले धन के मुद्दे पर सचमुच गंभीर है तो उसे ललित मोदी विवाद पर तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी