Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा इतने पटाखे जमा हैं जिनसे देश ही जल जाएगा

    Published: Mon, 28 Aug 2017 07:49 PM (IST) | Updated: Mon, 28 Aug 2017 10:41 PM (IST)
    By: Editorial Team
    supreme-court  28 08 2017

    नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों के भंडारण पर हैरत जताई। शीर्ष अदालत ने कहा कि आपके पास भारतीय सेना से ज्यादा पटाखे हैं। इनसे तो पूरा देश जल सकता है।

    त्योहारों के आसपास दिल्ली में वायु प्रदूषण बढ़ जाने की सुनवाई के दौरान अदालत को बताया गया राष्ट्रीय राजधानी के चारों तरफ 50 लाख किलो से पटाखों का भंडार है।

    जस्टिस मदन बी. लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की पीठ ने यह भी कहा, 'दिवाली के समय पांच दिनों तक प्रतिदिन 10 लाख किलो पटाखे इस्तेमाल किए जाते हैं।'

    पीठ ने सरकार से जानना चाहा कि चीन में बने पटाखों पर प्रतिबंध लगाने की दिशा में अभी तक क्या कदम उठाए गए हैं। घरेलू पटाखा निर्माताओं के वकील ने आरोप लगाया कि विदेशी उत्पादों पर कोई गुणवत्ता नियंत्रण नहीं है।

    निर्माताओं के वकील ने दावा किया कि चीन से आयात होने वाले पटाखे बेहद सस्ते होते हैं। लेकिन इनमें ढेर सारी प्रतिबंधित सामग्री का इस्तेमाल किया गया होता है।

    इन पर गुणवत्ता नियंत्रण नहीं है। पीठ ने अतिरिक्त सालिसिटर जनरल पिंकी आनंद से कहा, 'चीन के पटाखों पर प्रतिबंध लगाने के लिए आपने (केंद्र सरकार) क्या किया है?'

    इसके जवाब में अतिरिक्त सालिसिटर जनरल ने कहा कि वह इस मुद्दे पर निर्देश लेंगी और फिर अदालत को सूचित करेंगी।

    पिछले वर्ष दिया था लाइसेंस निलंबन का आदेश

    शीर्ष अदालत ने पिछले वर्ष नवंबर में सरकार को पटखा थोक एवं खुदरा विक्रेताओं का लाइसेंस निलंबित करने का आदेश दिया था। अदालत ने अगले आदेश तक निलंबन लागू रखने को कहा था।

    इसके अलावा अगले आदेश तक नए लाइसेंस जारी नहीं करने को कहा था। सिक्किम में लगा है प्रतिबंध वकील ने पीठ को बताया कि सिक्किम में पटाखा जलाने पर प्रतिबंध है।

    चीन में भी पटाखों के इस्तेमाल पर नियम बना है। प्रदूषण का स्तर बढ़ जाने के बाद चीन की सरकार ने इसके इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें