Naidunia
    Sunday, August 20, 2017
    PreviousNext

    बिहार में बाढ़ का नीतीश कुमार ने किया हवाई सर्वेक्षण, पीएम मोदी ने ली जानकारी

    Published: Mon, 14 Aug 2017 07:57 AM (IST) | Updated: Mon, 14 Aug 2017 02:08 PM (IST)
    By: Editorial Team
    nitish 2017814 14348 14 08 2017

    नई दिल्ली। बिहार में बाढ़ से बिगड़ते हालातों के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया। इससे पहली पीएम मोदी ने नीतीश कुमार से बात कर स्थिति की जानकारी ली साथ ही कहा कि कहा कि केंद्र की हालात पर नजर है। केंद्र सरकार ने बिहार को हर तरह की सहायता मुहैया कराने का भी आश्वासन दिया है।

    इस बीच राहत और बचाव कार्य तेज कर दिए गए हैं और एनडीआरएफ की एक और टीम दोपहर में पटना पहुंची। बता दें कि नेपाल में हो रही लगातार बारिश के चलते बिहार में बाढ़ ने हाहाकार मचा दिया है। कई नदियां उफान पर हैं और राज्य के लाखों लोग इससे जूझ रहे हैं और ऐसे में राहत और बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ के साथ सेना को भी लगाया गया है।

    खबरों के अनुसार सीमांचल, कोसी और उत्तर बिहार के जिलों में स्थिति भयावह हो गई है। जोगबनी, कटिहार और किशनगंज में कई रेलवे स्टेशन और ट्रैक डूब गए हैं।

    बिहार और नेपाल में हो रही भारी बारिश से बिहार की छोटी-बड़ी नदियां उफना रही हैं और कई तटबंध टूट गए हैं। उधर उत्तर प्रदेश में नदियां लगातार खतरे के निशान से ऊपर बह रहीं हैं। रविवार को श्रावस्ती में तीन और बाराबंकी में एक व्यक्ति की डूबने से मौत हो गई।

    बाढ़ से राज्य के बिगड़ते हालात से परेशान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात कर केंद्र की मदद मांगी। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्री अरुण जेटली से भी बात की। केंद्र ने सेना और एनडीआरएफ को राहत और बचाव के निर्देश दिए हैं।

    कोसी व सीमांचल के जिलों में हजारों घर डूबे हुए हैं और कई इलाकों में रेल, बिजली और दूरसंचार सेवा ठप है। कटिहार का पूर्वोत्तर के राज्यों से रेल संपर्क भंग हो गया है। किशनगंज जिला पूरी तरह टापू में तब्दील हो गया है। पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज जिले में राहत और बचाव कार्य में सेना लगाई जा रही है।

    उधर सुपौल में दीवार गिरने से दो और जमुई में एक व्यक्ति की मौत हुई है। सहरसा में डूबकर दो और अररिया व मधेपुरा जिले में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव ने बताया कि मुख्यमंत्री से रक्षा मंत्री अरुण जेटली की बातचीत के बाद दानापुर कैंट से सेना के जवान सीमांचल भेज दिए गए हैं।

    उप्र के सैकड़ों गांवों में घुसा बाढ़ का पानी उत्तर प्रदेश में नदियों का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। सैकड़ों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है और आवागमन अवरुद्ध है। श्रावस्ती में राप्ती नदी लगातार बढ़ रही है। यहां अलग-अलग क्षेत्रों में तीन लोगों की डूबने से मौत हो गई।

    वहीं बाराबंकी में घाघरा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। जीवल गांव में एक युवक की डूबने से मौत हो गई। गोंडा में सरयू नदी के जलस्तर में तेजी से इजाफा हुआ है। जबकि सीतापुर में घाघरा व शारदा नदियों के जलस्तर में वृद्धि जारी है।

    उत्तराखंड में कोटद्वार के पास फटा बादल उत्तराखंड में पौड़ी जिले के कोटद्वार के पास रविवार तड़के बादल फटने से बरसाती नदी उफान पर आ गई। हालांकि इससे जानमाल का नुकसान तो नहीं हुआ, लेकिन एक सप्ताह में तीसरी बार बादल फटने से ग्रामीणों में दहशत है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें