Naidunia
    Thursday, April 27, 2017
    Previous

    हरिद्वार सहित कई स्थानों पर नहाने योग्य भी नहीं है गंगा का पानी

    Published: Tue, 21 Mar 2017 11:54 AM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 12:02 PM (IST)
    By: Editorial Team
    ganga riever 21 03 2017

    नई दिल्ली। जल संसाधन मंत्री विजय गोयल ने सोमवार को संसद में कहा कि गंगा का पानी हरिद्वार सहित कई इलाका में नहाने के लायक भी नहीं है। यह पानी इतना प्रदूषित हो गया है कि हरिद्वार, गढ़मुक्तेश्वर, कन्नौज और इलाहाबाद जिलों में भी गंगा में डुबकी नहीं लगाई जा सकती।

    वहीं पश्चिम बंगाल में बहामरंपूर से डायमंड हार्बर तक की पूरी नदी का पानी गुणवत्ता के मानकों पर खरा नहीं उतरता है। हरिद्वार, गढ़मुक्तेश्वर, कन्नौज और इलाहाबाद जिले की गंगा का पानी काफी प्रदूषित है और यहां डुबकी लगाना हानिकारक है।

    भारत का जल मानक पानी की गुणवत्ता को परिभाषित करता है। निर्भर करता है कि पानी का उपयोग कैसे किया जा सकता है। गोयन ने राज्यसभा में अपने एक बयान में कहा, 'वार्षिक विविधता से पानी की गुणवत्ता में लगातार सुधार या गिरावट का संकेत नहीं मिलता है। सालों से पानी की गुणवत्ता के मानकों में एक अस्थिरता है।'

    केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने पिछले साल 285 उद्योगों को कवर करने के लिए आश्चर्यजनक निरीक्षण किया और पाया कि 85 इकाइयों ने मानकों का पालन नहीं किया। गंगा को स्वच्छ करने का भी एक मुद्दा था, जिसने मोदी को वाराणसी से जीत हासिल करने में मदद की।

    प्रधानमंत्री के रूप में साल 2014 में पहला कार्यक्रम नमामी गंगा शुरू किया, जिसका बजट 20,000 करोड़ रुपए है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य 2020 के अंत तक सभी मापदंडों पर नदी के पानी की गुणवत्ता में सुधार करना है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी