Naidunia
    Thursday, December 14, 2017
    PreviousNext

    हुर्रियत की फंडिंग पर बोले स्वामी, कश्मीर की स्थिति के कारण आएंगे सामने

    Published: Sat, 20 May 2017 10:58 AM (IST) | Updated: Sun, 21 May 2017 09:29 AM (IST)
    By: Editorial Team
    swamy 2017520 143931 20 05 2017

    नई दिल्‍ली। कश्मीर में हुर्रियत नेताओं को आतंकियों से फंडिंग के आरोपों की जांच एनआईए द्वारा शुरू किए जाने की खबरों के बाद सुब्रमण्यम स्वामी का बयान आया है। भाजपा नेता ने कहा है कि इसके बाद जल्द ही घाटी में जारी अस्थिरता के पीछे के कारण सामने आएंगे। बता दें कि कश्‍मीर में सुरक्षाबलों पर पथराव व अन्‍य हिंसक घटनाओं के लिए हुर्रियत नेताओं को पाकिस्‍तान की ओर से फंडिग किए जाने का खुलासा हुआ है।

    अस्‍िथरता का जिम्‍मेवार पाकिस्‍तानी कनेक्‍शन

    स्‍वामी ने एएनआई को बताया, ‘यह कहा जा सकता है कि इस घटना ने सबके चौंका दिया है। अब हमें कश्‍मीर में जारी विद्रोहों और हिंसा में पाकिस्‍तानी कनेक्‍शन के तह तक जाना होगा।‘ उल्‍लेखनीय है कि शुक्रवार को एनआईए ने जम्‍मू में हुर्रियत नेताओं सैयद अली शाह गिलानी, नईम खान व अन्‍य को लश्‍कर ए तैयबा प्रमुख हाफिज सईद व अन्‍य पाकिस्‍तानी आतंकियों से फंडिंग किए जाने को लेकर प्राथमिक जांच दर्ज कर लिया।

    घाटी पहुंची एनआईए टीम

    सूत्रों के अनुसार, एनआईए की टीम हुर्रियत फंडिंग मामले की जांच के लिए घाटी पहुंच गई है। टीम ने फंडिंग की बारीकियों की जांच की जो कि ज्यादातर पथराव सार्वजनिक संपत्‍तियों को नुकसान पहुंचाने जैसी विद्रोही गतिविधियों के लिए उपयोग की जा रही थी।

    अार्मी स्‍कूलों पर हुर्रियत का आरोप

    हुर्रियत नेता और अलगाववादी की ओर से कश्‍मिरियों को आर्मी द्वारा चलाए जा रहे स्‍कूलों में बच्‍चों को भेजने से मना किया जाता रहा है। उनका कहना है कि ऐसे संस्‍थान अगली पीढ़ी को धर्म और संस्‍कृति से दूर कर रहे हैं,जबकि वो खुद अपने व अपने संबंधियों के बच्‍चों को अच्‍छी तालीम हासिल करवा रहे हैं।इन नेताओं के बच्‍चे व रिश्‍तेदार किस तरह से ऐशो-आराम की जिंदगी जी रहे हैं, इसका एक उदाहरण सैयद अली शाह गिलानी का परिवार वह गुट है, जो कश्‍मीर के युवाओं को 'बड़े मकसद' से हमेशा अपनी पढ़ाई छोड़कर सड़कों पर उतरने को कहते रहे हैं। अप्रत्‍यक्ष रूप से 'पत्‍थरबाजी' के लिए उनसे अनुरोध करते रहे हैं। गिलानी के बेटे नईम गिलानी पाकिस्‍तान के रावलपिंडी में चिकित्‍सक हैं। वहीं उनके दूसरे बेटे जहूर भारत में एक प्राइवेट एयरलाइंस के मेंबर हैं। गिलानी की बेटी जेद्दा में एक शिक्षक है और पति वहां एक इंजीनियर है।

    हिंसक गतिविधियों को पाक का समर्थन

    रिपोर्ट के अनुसार, पहले व हाल में भारत में गिरफ्तार हुए आइएसआइ के दो आतंकियों से इस बात का खुलासा हुआ कि जम्‍मू कश्‍मीर में अलगवावादियों को पिछले कुछ माह से पाकिस्‍तान की ओर से फंडिंग की जाती है। कुछ कागजात जो जांच के दौरान बरामद हुए है उससे पाकिस्‍तान व अलगाववादी नेताओं के बीच की सांठगांठ सामने आयी है जो कश्‍मीर के युवाओं को वहां हिंसक गतिविधियों के लिए उकसा रहे हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें