Naidunia
    Thursday, November 23, 2017
    PreviousNext

    राजस्थान सरकार ने कहा, फिल्म पद्मावती पर रोक का निर्णय नहीं

    Published: Tue, 14 Nov 2017 06:13 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 12:43 PM (IST)
    By: Editorial Team
    padmavati poster news 01 11 17 14 11 2017

    जयपुर। राजस्थान में फिल्म पद्मावती को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को कोटा के एक मॉल स्थित सिनेमा हॉल में फिल्म का ट्रेलर दिखाने पर तोड़फोड़ और पथराव किया गया।

    उधर, राज्य के गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि लोकतंत्र में विरोध करना सबका अधिकार है लेकिन कोई कानून हाथ में लेगा तो कार्रवाई होगी। इस मामले में आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

    कटारिया ने कहा कि फिलहाल फिल्म पर रोक को लेकर सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है। राजस्थान में राजपूत समाज सहित ज्यादातर लोग इस फिल्म का विरोध कर रहे हैं।

    रोज कहीं न कहीं से विरोध प्रदर्शन की बात सामने आ रही है। मंगलवार को कोटा के एयरोड्रम सर्कल स्थित आकाश सिने मॉल में एक फिल्म के दौरान फिल्म दिखाए जाने के दौरान पद्मावती का ट्रेलर दिखाया गया।

    इस पर वहां मौजूद कुछ लोगों ने करणी सेना के पदाधिकारियों को सूचना दे दी। पता चलते ही करणी सेना से जुड़े 35-40 लोग पहुंच गए। इनमें से कुछ सिनेमा हॉल में जबरन घुस गए और जमकर तोड़फोड़ की।

    वहीं, बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि वे किसी भी हाल में फिल्म पद्मावती को यहां रिलीज नहीं होने देंगे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौके पर मौजूद प्रदर्शनकारियों खदेड़ा। तोड़फोड़ करने वाले आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

    कमेटी बनाने की बात से सरकार पलटी

    फिल्म देखने के लिए कमेटी बनाए जाने की बात राज्य के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने मंगलवार को नकार दी। कहा कि इस बारे में उन्होंने विभाग के अधिकारियों से चर्चा की थी।

    इसके बाद यह तय किया गया कि यह उनके विभाग का विषय नहीं है। इस मामले में कला व संस्कृृति विभाग निर्णय करेगा। हम कानून-व्यवस्था का कोई मामला खड़ा होने पर कार्रवाई करेंगे।

    आचार्य धर्मेंद्र बोले, फिल्म का नाम ही गलत

    उधर, जयपुर में विश्व हिंदू परिषद से जुड़े आचार्य धर्मेंद्र ने फिल्म की कहानी के साथ ही इसके नाम पर भी आपत्ति जताई है।

    आचार्य धर्मेंद्र ने कहा है कि चित्तौड़गढ़ की रानी का नाम पद्मावती कभी रहा ही नहीं, उनका नाम तो महारानी पद्मिनी था। अब फिल्म का नाम ही गलत है तो कथानक में क्या होगा। उन्होंने इस संबंध में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी पत्र लिखा है।

    19 को दिल्ली में जनसभा

    अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने फिल्म के विरोध में राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 19 नवंबर को जनसभा करने का एलान किया है।

    महासभा के नेता राधेश्याम सिंह का कहना है कि इस जनसभा में पूरे प्रदेश से बड़ी संख्या में लोग शिरकत करने पहुंचेंगे। इससे पहले राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना 30 नवंबर को राजस्थान बंद का आह्वान कर चुकी है।


    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें