Naidunia
    Sunday, October 22, 2017

    Last Rituals

    बैल को माना परिवार का सदस्य, मौत पर दिया भोज

    Wed, 13 Sep 2017 09:14 PM (IST)

    डबलचौकी में एक किसान परिवार ने अपने घर के बैल का मृत्यु पर उसका अंतिम क्रियाकर्म अपने परिजन की तरह ही किया।

    पेड़ और गाय बचाने के लिए पहल, लकड़ी की बजाय गोकाष्ठ से अंतिम संस्कार

    Fri, 05 May 2017 08:24 AM (IST)

    गोकाष्ठ से दाह संस्कार करने पर 15 वर्ष की उम्र के दो पेड़ों को बचाया जा सकता है।

    करंट से हुई थी हथिनी की मौत, गांव वालों ने किया दशगात्र

    Mon, 19 Dec 2016 02:15 PM (IST)

    हथिनी की मौत के बाद शोक संतप्त ग्रामीणों ने रविवार को पांच गांव के ग्रामीणों की मौजूदगी में दशगात्र कार्यक्रम संपन्न कर दिया।

    सुषमा स्वराज की वजह से एक बेटा दे सकेगा पिता को मुखाग्नि

    Wed, 12 Oct 2016 08:26 AM (IST)

    विदेश मंत्री ने विजयादशमी और मुहर्रम के लिए दो दिन की छुट्टी के बावजूद अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास को वीजा प्रदान करने का निर्देश दिया।

    जेल में सूर्योदय से पहले इसीलिए दी जाती है फांसी

    Sun, 31 Jul 2016 01:27 PM (IST)

    चूंकि उसको मौत की सजा दी गई फिर उसके दिमाग पर प्रभाव क्यों डालना?

    लाल जोड़े में दी गई प्रत्यूषा बनर्जी को अंतिम विदाई

    Sun, 03 Apr 2016 12:20 PM (IST)

    एक्ट्रेस प्रत्यूषा बनर्जी का शनिवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया।

    शैतान को पत्थर मारने के साथ पूरी हुई हज की आखिरी रस्म

    Sat, 04 Oct 2014 06:21 PM (IST)

    डेढ़ लाख भारतीयों समेत तकरीबन बीस लाख हज यात्रियों ने शनिवार को शैतान पर पत्थर मारने की रस्म निभाई।

    अपनों ने छोड़ा हाथ, परायों ने दिया साथ

    Tue, 01 Apr 2014 02:56 AM (IST)

    पति के न रहने पर जब रिश्तेदारों ने भी साथ छोड़ दिया तो एक मां ने अपनी मेहनत और हौसले के बल

    मिलती जुलती तस्वीरें

    • अपनों ने छोड़ा हाथ, परायों ने दिया साथ

    • जेल में सूर्योदय से पहले इसीलिए दी जाती है फांसी

    • सुषमा स्वराज की वजह से एक बेटा दे सकेगा पिता को मुखाग्नि

    • करंट से हुई थी हथिनी की मौत, गांव वालों ने किया दशगात्र

    • बैल को माना परिवार का सदस्य, मौत पर दिया भोज

    • लाल जोड़े में दी गई प्रत्यूषा बनर्जी को अंतिम विदाई

    • पेड़ और गाय बचाने के लिए पहल, लकड़ी की बजाय गोकाष्ठ से अंतिम संस्कार