Naidunia
    Thursday, July 27, 2017

    Lord Shiva

    क्यों की जाती है कांवड़ यात्रा, जानिए कौन था दुनिया का पहला कांवड़ि‍या

    Tue, 25 Jul 2017 08:07 PM (IST)

    श्रावण का पवित्र माह शुरू होते ही आपको हजारों शिवभक्‍त कांवडि़यों के रूप में सड़कों पर नजर आ जाएंगे।

    हर साल बढ़ता है इस विशाल शिवलिंग का आकार, शिवभक्तों का लगता है तांता

    Mon, 24 Jul 2017 08:27 AM (IST)

    श्रध्दालुओं का मानना है कि शिवलिंग प्रतिवर्ष लगभग 6 से 8 इंच बढ़ता है।

    शिवालयों में गूंजे भोले के जयकारे, कावड़ यात्राएं निकली

    Wed, 19 Jul 2017 03:58 AM (IST)

    धरमपुरी। श्रावण के दूसरे सोमवार नर्मदा के मध्य टापू स्थित श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव मंदिर व तहसील प्रांगण स्थित श्री ऋणमुक्तेश्वर महादेव मंदिर में भीड़ रही। शाम को दोनों ही मंदिरों में आरती की गई। श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव को फूलों, तो श्री ऋणमुक्तेश्वर महादेव का श्री गणेशजी के रूप में श्रृंगार किया गया। चांदी से श्रृंगारित प्रतिमा राजगढ़। पांच धाम एक मुकाम

    आखिर क्‍यों भगवान शिव ने लिया हनुमान जी का अवतार

    Tue, 18 Jul 2017 12:53 PM (IST)

    यह कहानी रामायण के प्रारंभ की है, जब पृथ्वी पर श्री राम जी अवतार हुआ था।

    आखिर सोमवार को ही क्‍यों माना जाता है शिव का दिन

    Tue, 18 Jul 2017 12:39 PM (IST)

    सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने की परंपरा काफी पुराने समय से चली आ रही है।

    जानिए माता पार्वती क्यों हो गई थीं शिवजी की बहन से परेशान

    Tue, 18 Jul 2017 08:13 AM (IST)

    इस घटना के बाद से सी ननद-भाभी के बीच छोटी-छोटी तकरार और नोंक-झोंक का सिलसिला प्रारंभ हुआ।

    हैरान करने वाला है भगवान शिव के जन्‍म का वाकया

    Mon, 17 Jul 2017 03:37 PM (IST)

    धर्म के अनुसार यदि किसी का बचपन है तो निश्चत ही उसका अंत भी होगा।

    सावन के दूसरे सोमवार पर भगवान शिव को ऐसे करें खुश

    Mon, 17 Jul 2017 03:29 PM (IST)

    शिवालयों के अलावा घर में भी आप इस तरह नीचे दी गई पूजा विधि के द्वार भगवान शिव को प्रसन्न कर सकते हैं।

    तो भगवान शिव ऐसे बने ''महाकाल''

    Thu, 13 Jul 2017 09:29 PM (IST)

    भगवान शिव को कई नामों से पुकारा जाता है, उन्‍हें महाकाल भी कहा जाता है और कालों का काल भी।

    छग के इस शिवालय में ऋषि मार्कण्डेय को भोले ने दिए थे दर्शन!

    Mon, 10 Jul 2017 09:27 PM (IST)

    यही बालक कालांतर में महर्षि मार्कण्डेय और शिवालय के बगल से प्रवाहित होने वाली नदी का नाम मारकण्डी चर्चित हुआ।

    मिलती जुलती तस्वीरें

    • शिवालयों में होने लगी सावन की तैयारी

    • आस्था का केंद्र है विमलेश्वर और चंद्रेश्वर महादेव मंदिर

    • शिवालयों में गूंजे भोले के जयकारे, कावड़ यात्राएं निकली

    • भगवान शिव का आज फलों से होगा श्रृंगार

    • सावन के तीसरे सोमवार पर जलाभिषेक करने उमड़े श्रद्घालु

    • शिव को श्रध्दालु नहीं चढ़ा पा रहे जल

    • श्रीराम कथा सुननी हो तो भगवान शंकर की तरह सुनें

    • श्रवण नक्षत्र के संयोग में मनेगी महाशिवरात्रि

    • भगवान शिव ने पाशुपत-अस्त्र व्यापारी को ही क्यों दिया?

    • गंगा आरती से शुरू होगी भोलेनाथ की पूजा