Naidunia
    Sunday, August 20, 2017
    PreviousNext

    यह है हिंदू विवाह का पाकिस्तान कनेक्शन

    Published: Thu, 16 Mar 2017 12:39 PM (IST) | Updated: Wed, 22 Mar 2017 11:06 AM (IST)
    By: Editorial Team
    indianpakmarrageact 16 03 2017

    हाल ही में हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की संसद ने हिंदू अल्पसंख्यकों के लिए, विवाह के नियमन से संबंधित विधेयक को आखिरकार मंजूरी दे दी है।

    पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने हिंदू विवाह अधिनियम-2017 को पारित किया। इससे पाकिस्तान के हिंदुओं को विवाह से संबंधित अपना पर्सनल लॉ मिलेगा।

    तो वहीं, हिन्दू विवाह अधिनियम भारत की संसद द्वारा सन् 1955 में पारित एक कानून है। इसी समय तीन अन्य महत्वपूर्ण कानून पारित हुए। जोकि क्रमशः हिन्दू उत्तराधिकार अधिनियम (1955), हिन्दू अल्पसंख्यक तथा अभिभावक अधिनियम (1956) और हिन्दू एडॉप्शन और भरणपोषण अधिनियम (1956) हैं।

    ये सभी नियम हिन्दुओं की वैदिक परम्पराओं को आधुनिक बनाने के ध्येय से लागू किए गए थे। हिंदू धर्म में विवाह को सोलह संस्कारों में से एक संस्कार माना गया है।

    पाणिग्रहण संस्कार को सामान्य रूप से हिंदू विवाह के नाम से जाना जाता है। हिंदू विवाह पति और पत्नी के बीच जन्म-जन्मांतरों का सम्बंध होता है, जिसे किसी भी परिस्थिति में नहीं तोड़ा जा सकता।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें