Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    मंदिर के बाहर का तापमान 55 डिग्री, अंदर एसी जैसी ठंड

    Published: Fri, 13 May 2016 04:52 PM (IST) | Updated: Fri, 13 May 2016 05:53 PM (IST)
    By: Editorial Team
    shiv mandir 13 05 2016

    भुवनेश्वर। ओडिशा के टिटलागढ़ की पहाडि़यों पर एक ऐसा मंदिर स्थित है, जहां का तापमान बाहर के मुकाबले काफी कम रहता है। इस शिव मंदिर में भगवान शंकर और पार्वती की मूर्ति विराजमान है। पथरीली चट्टानों पर मंदिर के बने होने की वजह से बाहर का तापमान तकरीबन 55 डिग्री तक रहता है। लेकिन मंदिर के अंदर का तापमान उससे काफी कम लगभग 20 डिग्री के आसपास रहता है।

    इस शिव मंदिर के लिए भक्‍तों में काफी मान्‍यताएं हैं। रोजाना हजारों भक्‍त मंदिर में पूजा-अर्चना करने आते हैं। मंदिर के पुजारी प‍ंडित सुमन पाढ़ी का कहना है कि रोजाना बाहर का तापमान सूरज निकलने के साथ-साथ बढ़ता जाता है। कई बार दोपहर के समय यह तापमान 55 डिग्री तक चला जाता है। इसके बावजूद मंदिर के अंदर एसी जैसा तापमान बना रहता है।

    सुमन पाढ़ी कहते हैं कि इसके पीछे जो मान्‍यताएं है वह काफी चौंकाने वाली है। चूंकि, मंदिर में काफी प्रतिमाएं स्‍थापित हैं, इसलिए वहीं से ठंडी हवा निकलती है और इसी वजह से पूरा मंदिर ठंडा बना रहता है।

    यह भी पढ़ें : सांप ने काटा तो जहरीले कोबरे के साथ अस्पताल पहुंची महिला

    उन्‍होंने बताया कि मंदिर में पहली बार दर्शन के लिए आने वाले भक्‍त काफी आश्‍चर्यचकित हो जाते हैं। वे जबतक मंदिर के बाहर रहते हैं, पूरी तरह से पसीने से भीगे होते हैं लेकिन मंदिर के अंदर आने के चंद सेकेंड के अंदर ही पूरा पसीना सूख जाता है। मंदिर में काम करने वाले कई अन्‍य पुजारियों का भी कहना है कि रात के समय ठंड इतनी अधिक हो जाती है कि उन्‍हें कंबल ओढ़कर सोना पड़ता है।

    यह भी पढ़ें : नींद में मां ने पैक किया बेटी का लंच और हो गई ये गलती...

    बताते चलें कि यह मंदिर तकरीबन 3000 वर्षों पुराना है। पहले यहां शिव-पार्वती की प्रतिमाएं थीं लेकिन फिर चट्टानों को काटकर गुफानुमा मंदिर बना दिया गया।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें