Naidunia
    Wednesday, November 22, 2017
    Previous

    शूर्पणखा ने भद्राकाल में बांधी थी रावण को राखी, बर्बाद हो गया

    Published: Sat, 05 Aug 2017 10:01 AM (IST) | Updated: Sun, 06 Aug 2017 01:32 PM (IST)
    By: Editorial Team
    raksha bandhan 05 08 2017

    मल्टीमीडिया डेस्क। रक्षाबंधन का शुभ पर्व सात अगस्त सोमवार को है। उस दिन आंशिक चंद्रग्रहण भी है। ग्रहण काल को शुभ नहीं माना जाता। पुराणों में कहा गया है कि भद्रा योग और सूतक में राखी नहीं बांधनी चाहिए। ज्योतिषशास्त्र के जानकार लोगों से लगातार कह रहे हैं कि वे इस बार मुहूर्त का खास ध्यान रखें। इसके पीछे कई कारण बताए गए हैं।

    कहा जाता है कि रावण की बहन शूर्पणखा ने उन्हें भद्रा काल में राखी बांधी थी। इसके बाद रावण की क्या दुर्गति हुई, सभी को पता है। पुराणों में उल्लेख है कि यदि शूर्पणखा भद्रा काल टाल देती, तो कोई ताकत रावण को नहीं हरा पाती।

    इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि जब तक ब्रह्मा, विष्णु और महेश साथ में मौजूद नहीं होते हैं तो कोई भी पूजा संपन्न नहीं मानी जाती। मान्याता है कि भद्रा काल में भगवान शंकर तांडव कर रहे होते हैं। इस वजह से वे पूजा में उपस्थित नहीं रहते हैं।

    जरूर रखें समय का ख्याल

    - चंद्र ग्रहण रात्रि 10.29 से मध्य रात्रि 12.22 तक यानी कुल 1 घंटा 53 मिनट तक रहेगा।

    - सूतक काल दोपहर 1.29 से प्रारंभ होगा और भद्रा दोपहर 11.04 मिनट तक रहेगी।

    - श्रावणी उपाकर्म यानी राखी बंधन दोपहर 11.05 से दोपहर 1.28 मिनट के बीच करना होगा।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें