Naidunia
    Saturday, November 18, 2017
    PreviousNext

    तो क्या धूनीवाले दादाजी थे भगवान शिव के अवतार!

    Published: Fri, 14 Jul 2017 09:58 AM (IST) | Updated: Fri, 14 Jul 2017 11:29 AM (IST)
    By: Editorial Team
    dhuniwaledadajipic 14 07 2017

    पिछले दिनों गुरुपूर्णिमा के शुभअवसर पर अनगिनत भक्तों का सैलाब धूनीवाले दादाजी के धाम पर पहुंचा। यह नजारा हर साल देखा जा सकता है। दादाजी का यह दिव्य धाम है मप्र के खंडवा में...यह ठीक वैसा ही धाम है जैसा कि शिरडी का साईं धाम।

    कहते हैं यह वही स्थान है जहां धूनी वाले दादाजी सैकड़ों वर्ष पहले धूनी रमाकर बैठते थे। वह सुनते थे लोगों की परेशानियां दूर कर उनकी जिंदगी बेहतर कर देते थे।

    तो क्या अवतारी थे दादाजी

    - धूनीवाले दादाजी को उनके भक्त भगवान भोलेनाथ या फिर दत्तात्रेय का अवतार मानकर पूजते हैं।

    - कहते हैं उनके दरबार में आज-तक जो भी फरियादी आया है, वो खाली हाथ नहीं लौटा है। यानी उसकी मनोकामनाएं जरूर पूरी होती हैं।

    - दादाजी का दरबार उनके समाधि स्थल पर बनाया गया है। दादाजी के 27 धाम भारत और विदेशों में मौजूद हैं।

    - इन सभी स्थानों पर दादाजी के समय से आज तक लगातार धूनी चल रही है।

    - सन् 1930 में दादाजी ने मध्य प्रदेश के खण्डवा शहर में समाधि ली। दादाजी का समाधि स्थल खंडवा रेलवे स्टेशन से 3 किमी की दूरी पर है।

    हरिहरानंदजी थे दादाजी के उत्तराधिकारी

    - हरिहरानंदजी, धूनीवाले दादाजी के उत्तराधिकारी थे। जिन्हें छोटे दादाजी यानी स्वामी हरिहरानंदजी के नाम से संबोधित किया जाता है। उनका मूल नाम भंवरलाल था।

    - उनका जन्म राजस्थान के डिडवाना गांव के एक समृद्ध परिवार में हुआ था।

    - एक समय की बात है भंवरलाल दादाजी से मिलने आए। दोनों में लंबी मुलाकात हुई और भंवरलाल ने अपने आप को धूनीवाले दादाजी के चरणों में समर्पित कर दिया।

    - भंवरलाल शांत प्रवृत्ति के थे और दादाजी की सेवा में लगे रहते थे।

    - दादाजी ने उन्हें अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया और उनका नाम हरिहरानंद रखा।

    - हरिहरानंदजी को भक्त छोटे दादाजी नाम से पुकारने लगे। दादाजी धूनीवाले की समाधि के बाद हरिहरानंदजी को उनका उत्तराधिकारी माना जाता था।

    - हरिहरानंदजी ने बीमारी के बाद सन् 1942 में महानिर्वाण को प्राप्त किया।

    - छोटे दादाजी की समाधि बड़े दादाजी की समाधि के पास स्थापित की गई।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें