Naidunia
    Thursday, April 27, 2017
    PreviousNext

    भूतपूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री जी का सरकारी कूलर

    Published: Mon, 31 Mar 2014 01:46 PM (IST) | Updated: Thu, 20 Apr 2017 11:24 AM (IST)
    By: Editorial Team
    ourpm 2017420 112353 31 03 2014

    बात उन दिनों की है, जब लाल बहादुर शास्त्री जी उत्तर प्रदेश के गृह मंत्री थे। बड़े पद पर पहुंच कर भी वह सादा जीवन जीते थे। सुविधा की कोई भी चीज और ऐशो-आराम के लिए कुछ भी भौतिक वस्तुओं का उपयोग नहीं करते थे।

    गृह मंत्री बनने पर वह सरकारी बंगले में आकर रहने लगे। एक दिन बिना उनसे पूछे व बिना उनकी जानकारी के सार्वजनिक निर्माण विभाग वालों ने उनके बंगले में कूलर लगा दिया। घर वाले यह देखकर खुश हो गए।

    उन दिनों गर्मी का मौसम था और सब लोग गर्मी से परेशान थे। कूलर लगने से सबको राहत मिली। उधर शास्त्री जी इससे बेखबर थे। दिन भर ऑफिस का काम निपटाने के बाद देर शाम को जब शास्त्री जी घर पहुंचे, तो उन्हें घर पर सरकारी कूलर लगने की बात बताई गई।

    यह जानकर वह कुछ गंभीर हो गए और घर वालों से बोले- जरूरत पड़ने पर धूप-लू में निकलना ही पड़ेगा। लड़कियां शादी के बाद न जाने कैसी स्थिति में रहें? हमें फिर इलाहाबाद के अपने पुश्तैनी मकान में रहना पड़ सकता है। इस तरह कूलर से तो सबकी आदतें बिगड़ेगी हीं।

    घर वाले यह सुनकर चुप रह गए। शास्त्री जी को इतना कहकर भी संतोष नहीं हुआ। उन्होंने तुरंत सार्वजनिक निर्माण विभाग को फोन कर दिया कि मेरे घर पर लगाया गया कूलर हटा लिया जाए। उनका आदेश था, इसलिए अगले दिन ही उनके आवास से कूलर हट गया। शास्त्री जी को राहत मिली। जिसने भी यह प्रसंग सुना, उसने शास्त्री जी की सादगी की प्रशंसा की।

    संक्षेप

    हमेशा सादगी भरा जीवन जीने की कोशिश करना चाहिए ऐसे में आपके आदतें समान्य बनीं रहती हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=
    • VIJAYTARAI08 Apr 2014, 01:23:26 AM

      THAT WAS PAST IS ANY A SINGLE LEADER OF OUR BE COMPARABLE TO SHASTRI JI IN PRESENT DAYS

    • indrajeet kumar01 Apr 2014, 05:47:25 PM

      इन्के जैसा ना कोइ है और ना कभि कोइ होगा

    अटपटी-चटपटी