Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    गूगल का बैलून दुनियाभर में इंटरनेट सेवाएं देने को तैयार, लेकिन श्रीलंका में हुआ फेल

    Published: Fri, 17 Feb 2017 12:55 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 12:59 PM (IST)
    By: Editorial Team
    google balloon 2017217 125942 17 02 2017

    मल्टीमीडिया डेस्क। गूगल पेरेंट अल्फाबेट का कहना है कि अपने नेविगेशन साॅफ्टवेयर में सफलता हासिल करने के बाद, वे प्रोजेक्ट लून के इंटरनेट बैलून्स के जरिए दुनिया के दूरदराज के क्षेत्रों में सेवाएं देने के लिए तैयार है।

    अल्फाबेट यूनिट एक्स की टीम का नेतृत्व करने वाले एस्ट्रो टेलर ने कहा 'हम जल्द ही लेकर सोच के साथ कदम उठा रहे हैं। हम इन बैलून्स को स्मार्टर बनाने की कोशिश में जुटे हैं।'

    कंपनी ने प्रोजेक्ट लून के लिए तैयारी तो बहुत पहले शुरू कर दी थी लेकिन इसे जून 2013 से न्यूजीलैंड में प्रायोगिक तौर पर लॉन्च किया गया। इसके तहत 30 बलून को हवा में भेजा गया और लगभग 50 लोगों को लून नेटवर्क के माध्यम से इंटरनेट सेवा से जोड़ा गया। इसके लिए विशेष तरह के एंटीना का प्रयोग किया गया था।

    न्यूजीलैंड के बाद प्रोजेक्ट लून से इंटरनेट हासिल करने वाला दूसरा देश ब्राजील है। श्रीलंका में भी इसका टेस्ट हो चुका है लेकिन यहां अब कानूनी रोड़ा आ गया है। टेस्टिंग के एक साल बाद बिना अंतरराष्ट्रीय नियमों को तोड़कर गूगल इस हवाई उद्यम के लिए एक रेडियो फ्रीक्वेंसी आवंटित करने में असमर्थ है।

    संचार मंत्री हरिन फर्नांडो ने कहा कि जिनेवा स्थित अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) श्रीलंका के सार्वजनिक प्रसारकों के रूप में गूगल के एक ही आवृत्ति का उपयोग कर इंटरनेट उपलब्ध कराने का विरोध किया था।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें