Naidunia
    Monday, September 25, 2017
    PreviousNext

    HummingWhale मालवेयर के निशाने पर एंड्रायड स्मार्टफोन

    Published: Wed, 25 Jan 2017 02:28 PM (IST) | Updated: Wed, 25 Jan 2017 03:57 PM (IST)
    By: Editorial Team
    android mallware 2017125 143347 25 01 2017

    मल्टीमीडिया डेस्क। HummingBad नाम के मालवेयर ने पिछले साल पूरी दुनिया में करीब 10 मिलियन एंड्रायड डिवाइसेस पर अटैक किया था। इससे फेक डेवलपर्स ने 300,000 डॉलर प्रति महीने कमाए थे। इसके बाद सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने इस साल HummingBad के एक नए वर्जन को ट्रैक किया है। गूगल प्ले स्टोर मे करीब 20 एप्स ऐसी हैं, जिनमें HummingWhale मालवेयर है। आपको बता दें कि गूगल सिक्योरिटी टीम द्वारा इन एप्स डिलीट करने से पहले ही करीब 12 मिलियन लोगों ने इन्हें डाउनलोड कर लिया है।

    यह है HummingWhale मालवेयर

    HummingWhale कटिंग एज तकनीक के साथ बनाया गया है। ये तकनीक गलत सॉफ्टवेयर के जरिए फ्रॉड एड के संचालन करने की अनुमति देती है। इससे ये मालवेयर अपने डेवलपर के लिए रेवन्यू बनाता है।

    रिसर्चर्स का यह है कहना

    HummingWhale इंफेक्टेड एप्स फेक चाइनीज डेवलपर्स द्वारा पब्लिश की गई हैं। फेक डेवलपर्स ने इन एप्स के नाम बहुत की कॉमन रखें है। जिससे यूजर्स को किसी तरह का शक न हो। यह मालवेयर पहले के HummingBad से भी ज्यादा खतरनाक है।

    नीचे दी गई तस्वीर में इन एप्स के बारे में बताया गया है...

    यह वायरस, APK फाइल के तौर पर ड्रॉपर की तरह काम करता है और स्मार्टफोन में दूसरी एप्स को इंस्टॉल कर ऑटोमेटकिली रन करता है। अगर यूजर इस प्रोसेसर को रोक देता है, तो यह APK फाइल खुद को वर्चुअल मशीन में बदल देती है। जिसे पकड़ पाना मुश्किल हो जाता है।

    आपको बता दें कि यह ड्रॉपर एक एंड्रायड प्लग-इन (DroidPlugin) को इस्तेमाल करता है, जो चाइनीज सिक्योरिटी वेंडर Qihoo 360 ने बनाया है। यह प्लगइन वर्चुअल मशीन में मालवेयर एप्स को अपलोड करने का काम करती है। यह बिना यूजर को पता चले फोन में कई एप्स को डाउनलोड कर देती है, जो HummingWhale मालवेयर से इंफेक्टेड होता है। इससे यूजर के फोन की इंटरनल मेमोरी पर कोई फर्क नहीं पड़ता है।

    अगर यूजर के फोन में यह मालवेयर आ जाता है, तो कमांड एंड कंट्रोल यानि C&C सर्विर यूजर को फेक एड्स और मालवेयर एप्स भेजता है। जो वर्चुअल मशीन पर काम करते हैं। इससे फेक डेवलपर्स का रेवन्यू जनरेट होता है। HummingBad की तरह HummingWhale मालवेयर भी एड फ्रॉड और फेक ऐप इंस्टॉलेशन के जरिये पैसा कमा चाहता है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें