Naidunia
    Wednesday, July 26, 2017

    #topnews

    सिर्फ नाग पंचमी को खुलते हैं इस मंदिर के पट, नागराज तक्षक रहते हैं यहां

    Wed, 26 Jul 2017 11:29 AM (IST)

    चाहते थे कि उनका एकांत भंग नहीं हो, इसलिए उनके मंदिर के पट साल में एक बार ही खोले जाते हैं।

    तो ये है सिंदूर लगाने का सही तरीका और उसका महत्‍व

    Tue, 25 Jul 2017 08:08 PM (IST)

    यदि आप एक हिंदू परिवार से हैं और एक विवाहित स्त्री भी हैं, तो सिंदूर का क्या महत्व को भली प्रकार जानती होंगी।

    देखने में सामान्‍य मगर बहुत बड़ी बात बता देते हैं ये संकेत

    Tue, 25 Jul 2017 08:07 PM (IST)

    भारतीय परंपराओं में बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जिन्‍हें शुभ और अशुभ से जोड़कर देखा जाता है।

    मंगलवार को न करें ये काम, आपकी उम्र होती है कम

    Tue, 25 Jul 2017 08:07 PM (IST)

    कहा जाता है कि अगर आपको इन ग्रहों के प्रभाव से बचना है तो भगवान हनुमान की पूजा करनी चाहिए।

    क्यों की जाती है कांवड़ यात्रा, जानिए कौन था दुनिया का पहला कांवड़ि‍या

    Tue, 25 Jul 2017 08:07 PM (IST)

    श्रावण का पवित्र माह शुरू होते ही आपको हजारों शिवभक्‍त कांवडि़यों के रूप में सड़कों पर नजर आ जाएंगे।

    घर से बाहर निकलते समय रखे छोटी सी बात का ध्‍यान, नहीं आएगी बाधा

    Mon, 24 Jul 2017 12:38 PM (IST)

    कुछ ऐसी कई छोटी-छोटी बातें हैं जिनका ध्यान रखा जाए तो यात्रा में सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

    ज्‍योतिष के अनुसार, हर राशि की होती है एक बड़ी 'कमजोरी'

    Mon, 24 Jul 2017 11:14 AM (IST)

    ग्रह इस बात का निर्धारण करते हैं कि वह व्‍यक्ति कैसा होगा, कैसा व्‍यवहार करेगा और वह भविष्‍य में क्‍या कर सकता है।

    सावन का तीसरा सोमवार होता है खास, जानिए क्‍यों?

    Mon, 24 Jul 2017 10:17 AM (IST)

    सावन के महीने में भगवान शिव को प्रसन्न करने और अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए सोमवार के दिन का विशेष महत्व होता है।

    धर्म के अनुसार किस दिन क्‍या करें और क्‍या न करें

    Mon, 24 Jul 2017 09:56 AM (IST)

    आज हम इसी बात को जानेंगे कि हिंदू धर्म में किस दिन किस काम को करना उचित बताया गया है और किसे करना अनुचित।

    10 वीं सदी के इस शिव मंदिर में अनुष्ठान करने से संतान प्राप्ति की मान्यता

    Sun, 23 Jul 2017 02:32 PM (IST)

    आमतौर संतान की चाहत रखने वाले समीप के नाला में स्नान कर ही इन देवालयों में प्रवेश कर अनुष्ठान संपन्न कराते हैं।