Naidunia
    Saturday, September 23, 2017

    हिंदी दिवस

    हर साल 14 सितंबर को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर www.naidunia.com पर देखिए हिंदी दिवस की स्पेशल कवरेज -

    'स्टार' टीवी ने जब घुटने टेक दिए थे हिंदी के आगे

    Wed, 13 Sep 2017 09:56 AM (IST)

    आज जब आप हिंदी में गूगल करें, हिंदी ऐप चलाएं... इन सब में हिंदी की ताकत को जरूर महसूस कीजिएगा।

    वीरेंद्र सहवाग ने की ये गलती, सोशल मीडिया पर यूं उड़ रही खिल्ली

    Fri, 15 Sep 2017 09:17 AM (IST)

    दूसरों का मज़ाक उड़ाने वाले वीरू आज खुद ही ट्रोलर्स के शिकार हो गए।

    हिंदी दिवस पर हुई दोहा प्रतियोगिता

    Fri, 15 Sep 2017 03:58 AM (IST)

    नीमच। सीताराम जाजू शासकीय गर्ल्स पीजी कॉलेज में हिंदी दिवस पर दोहा प्रतियोगिता हुई। इस अवसर पर श्रुतिले

    गुलामी ने हिंदी साहित्य और संस्कृति को किया नष्ट-भ्रष्ट

    Fri, 15 Sep 2017 03:58 AM (IST)

    नीमच। नईदुनिया प्रतिनि;घिळर्-ऊि्‌झ। आजादी के बाद आज भी गुलामी की मानसिकता का चित्र दिल से नहीं गया

    हिंदुस्तान की संस्कृति की परिचायक है हिंदी

    Fri, 15 Sep 2017 03:58 AM (IST)

    रतलाम। नईदुनिया प्रतिनि;घिळर्-ऊि्‌झ। हिंदी भाषा हिंदुस्तान की संस्कृति की परिचायक है। हिंदी जन-जन की भा

    हिंदी दिवस के मौके पर ऐसे परखें खुद की हिंदी

    Thu, 14 Sep 2017 12:12 PM (IST)

    हिंदी दिवस के मौके पर www.naidunia.com आपके हिंदी ज्ञान को खुद से परखने का मौका दे रही है।

    हिंदी का मजाक उड़ाने वालों की इन सेलेब्रिटीज ने ऐसे की बोलती बंद

    Wed, 13 Sep 2017 09:30 AM (IST)

    लोगों को हिंदी बोलने में शर्म महसूस होती है। इसके ठीक विपरीत, कुछ सेलेब्रेटीज ऐसे हैं, जिन्होंने हिंदी पर जोर दिया और वैश्विव पहचान दिलाई।

    ये हैं हिंदी के नए हीरो, जानें कैसे बढ़ावा दिया हमारी भाषा को

    Wed, 13 Sep 2017 09:40 AM (IST)

    वे हिंदी के बड़े ज्ञाता भी नहीं हैं, परंतु डिजिटल वर्ल्ड में हिंदी के फैलाव में उनकी भूमिका बेहद अहम है। 1.

    हिंदी दिवस 2017 : हिंदीभाषी ही हैं हिंदी की ताकत

    Thu, 14 Sep 2017 10:48 AM (IST)

    आज थोड़े से लोग, अपने निहित स्वार्थ के लिए बीस करोड़ के प्रतिनिधित्व का दावा करके देश को धोखा दे रहे है।

    विदेशों में अब झिझक नहीं, गर्व दे रही हिंदी

    Thu, 14 Sep 2017 09:51 AM (IST)

    यह सच्चाई है कि बीते दो-तीन सालों में भारत, भारतीय लोगों, हमारे त्योहारों और हमारी भाषा के प्रति स्थानीय लोगों में सम्मान काफी बढ़ा है।

    मिलती जुलती तस्वीरें