Naidunia
    Tuesday, November 21, 2017
    PreviousNext

    सरकार साबित नहीं कर सकी रेप का आरोप तो कोर्ट को बदलना पड़ा नियम

    Published: Tue, 14 Nov 2017 05:00 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 09:42 AM (IST)
    By: Editorial Team
    hammer may10 14 11 2017

    फ्रांस। फ्रांस में दुष्‍कर्म के एक केस की सुनवाई के दौरान कानून ही बदलना पड़ गया। एक नाबालिग से दुष्‍कर्म के केस की सुनवाई चल रही थी जिसमें आरोपी ने साबित कर दिया कि यौन संबंध सहमति से बने थे।

    इसके बाद अभियोजन पक्ष इसे दोषी साबित नहीं कर सका। फ्रांस के कानून के अनुसार 15 से कम की आयु के व्‍यक्ति से यौन संबंध बनाना गैर कानूनी है।

    लेकिन अभियोजन को इसे साबित करना होता है कि यह गैर सहमत‍ि से बने संबंध थे। कानूनी रूप से कोई निम्‍नतम आयु निर्धारित नहीं है जिसमें यह माना जा सके कि नाबालिग सहमति नहीं दे सकता।

    इक्विलिटी मिनिस्‍टर मर्लिन सशिपा ने कहा कि 13 से 15 की आयु के बीच एक मिनिमम आयु सीमा तय होना चाहिये।

    उन्‍होंने बताया कि इस केस में 29 साल के आदमी पर 11 साल की नाबालिग लड़की से पार्क में रेप करने का आरोप है।

    उसे ज्‍यूरी ने दोषी पाया लेकिन अभियोजन पक्ष इस बात को साबित नहीं कर पाया कि लड़की ने अपनी सहमति नहीं दी।

    लोक अभियोजक डोमिनी लारेन के अनुसार फ्रेंच लॉ में रेप, धमकी, यौन हिंसा, मारपीट आदि को शामिल किया गया है।

    फ्रेंच अखबार ले पेरिशियन ने लिखा कि घटना 2009 की है। तब आरोपी 22 साल का था। उसने पार्क में लड़की से यौन संबंध बनाए जो कि आपसी सहमति से बने थे।

    तब लड़की ने खुद कहा था कि वह 14 साल की है और जल्‍द ही 15 साल की होने वाली है। लड़की के परिवार को बाद में पता चला कि वह प्रेग्‍नेंट है। उसका अब सात साल का बच्‍चा है जो कि फोस्‍टर केयर में है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें