Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    भ्रष्टाचार मामले में सैमसंग के प्रमुख गिरफ्तार

    Published: Fri, 17 Feb 2017 08:15 AM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 10:15 PM (IST)
    By: Editorial Team
    samsung chief arrested 17 02 2017

    सियोल। दक्षिण कोरिया के चर्चित भ्रष्टाचार मामले में सैमसंग के प्रमुख जाय वाई ली को गिरफ्तार कर लिया गया। शुक्रवार सुबह हुई गिरफ्तारी से विश्व के इलेक्ट्रॉनिक बाजार में दबदबा रखने वाली दक्षिण कोरिया की सबसे बड़ी कंपनी को गहरा झटका लगा है। इस मामले में देश की राष्ट्रपति पार्क ग्यून ही भी फंसी हुई हैं और संविधान कोर्ट में उनके खिलाफ संसद से पारित महाभियोग पर सुनवाई चल रही है।

    सैमसंग के प्रमुख जाय वाई ली के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट को मंजूरी देते हुए डिस्ट्रिक कोर्ट ने सुबूतों का हवाला दिया है। अदालत के प्रवक्ता ने कहा, "नए आपराधिक आरोपों और नए सुबूतों के आलोक में जाय वाई ली की गिरफ्तारी अनिवार्य हो गई है।" अन्य आरोपों के साथ ही जाय ली पर राष्ट्रपति पार्क की सहेली को चार करोड़ अमेरिकी डॉलर देने का आरोप है। यह भुगतान अपनी कंपनी के विलय को सरकारी मंजूरी दिलाने के लिए किया गया था।

    कंपनी प्रमुख की गिरफ्तारी से उसके शेयरों पर बुरा असर पड़ा है। सुबह के कारोबार में 1.5 फीसद की गिरावट दर्ज की गई। एक बयान में सैमसंग ने कहा है, "हम यह सुनिश्चित करने में जुटे हैं कि अदालत की भावी कार्यवाही में सच सामने आ जाए।" गुरुवार को सुनवाई पूरी होने के बाद जाय वाई ली को हिरासत में रखा गया था। महीनों बाद सुनवाई शुरू होने से उन्हें अभी हिरासत में ही रहना होगा।

    देश को हिला देने वाले भ्रष्टाचार मामले में भूमिका पर सैमसंग समूह के मालिक ली कुन-ही के 48 वर्षीय बेटे जाय वाई ली से कई बार पूछताछ हो चुकी है। पिछले महीने वह गिरफ्तार होने से बच गए थे। अदालत ने उस समय सुबूत पर्याप्त नहीं माने थे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=
    • shrigopal soni21 Feb 2017, 09:53:37 AM

      We live in a fool's paradise to think that Indian corporate entities are un-affected by the global culture of give and take, I served an insurance company for two decades and on the basis of about 100 RTI replies I find that neither vigilance nor audit is meaningful or effective in the matter of system's corruption.

    जरूर पढ़ें