Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    दिल्ली में भी खुलेगा मैडम तुसाद संग्रहालय

    Published: Fri, 13 Nov 2015 04:44 PM (IST) | Updated: Fri, 13 Nov 2015 06:17 PM (IST)
    By: Editorial Team
    wax-museum 13 11 2015

    लंदन। मोम की मूर्तियों और कलाकृतियों के लिए दुनिया भर में मशहूर मैडम तुसाद संग्रहालय की शाखा दिल्ली में भी खोली जाएगी। भारत-ब्रिटेन सांस्कृतिक वर्ष-2017 के तहत नई दिल्ली में बॉलीवुड स्टार के लिए यह संग्रहालय बनाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली ब्रिटेन यात्रा के दौरान इसका एलान किया गया है।

    भारत में मैडम तुसाद संग्रहालय की यह पहली शाखा होगी। ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ावा देने के लिए शेक्सपियर का फर्स्ट फोलियो, मैग्नाकार्टा की प्रति और अन्य ऐतिहासिक वस्तुओं को सांस्कृतिक आदान-प्रदान के तहत वर्ष 2017 में भारत में प्रदर्शित किया जाएगा।

    उसी वर्ष ब्रिटेन में भारत उत्सव का भी आयोजन किया जाएगा। मुंबई स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय में भारतीय सभ्यताओं से जुड़ी वस्तुओं को प्रदर्शित किया जाएगा। कैमरन ने कहा, "भारत और ब्रिटेन का संबंध आर्थिक साझेदारी से कहीं आगे है।

    हमारी संस्कृति दुनिया की कुछ बेहतरीन संस्कृतियों में एक है।" द ब्रिटिश लाइब्रेरी इस मौके पर दक्षिण एशियाई आर्काइव से जुड़े दो लाख पृष्ठों को डिजिटल भी करेगा। इसमें वर्ष 1714 से 1914 के दौरान प्रकाशित भारतीय पुस्तकें भी शामिल होंगी।

    भारत के 70वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आयोजित होने वाला समारोह सालभर चलेगा। दोनों देशों की सभ्यता और संस्कृति से जुड़े कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस दौरान ब्रिटेन की शीर्ष संस्थाएं भारतीय संस्थाओं के साथ मिलकर सांस्कृतिक और आर्थिक संबंधों को मजबूत करने में योगदान करेंगी।

    मैडम तुसाद संग्रहालय की देखरेख करने वाली संस्था मर्लिन भारत में आने वाले दस वर्षों में 50 मिलियन पाउंड (504 करोड़ रुपये) का निवेश करेगी।

    डेढ़ सौ वर्षों से बना रहा मोम की प्रतिमाएं

    लंदन स्थित मैडम तुसाद म्यूजियम करीब 150 वर्षों से मोम की बिल्कुल वास्तविक दिखने वाली प्रतिमाएं बनाता आ रहा है। इस म्यूजियम में महात्मा गांधी, अमिताभ बच्चन और ऐश्र्वर्या राय जैसी भारतीय हस्तियों की प्रतिमाएं भी बनाई गई हैं।

    तुसाद म्यूजियम में इस प्रकार की एक प्रतिमा बनाने में 20 कुशल कारीगरों की टीम को लगभग चार महीने लग जाते हैं। लंदन के अलावा वाशिंगटन डीसी, लास वेगास, न्यूयार्क, एम्सटर्डम, बर्लिन, हांगकांग एवं शंघाई में मैडम तुसाद म्यूजियम की शाखाएं हैं। तुसाद संग्रहालय की तर्ज पर मुंबई में भी म्यूजियम खोलने का निर्णय लिया गया है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें