Naidunia
    Tuesday, May 23, 2017
    PreviousNext

    आवाज सुनकर अब डॉक्‍टर बता देंगे दिल की बीमारी का हाल

    Published: Thu, 17 Nov 2016 10:05 AM (IST) | Updated: Thu, 17 Nov 2016 10:08 AM (IST)
    By: Editorial Team
    heart disease 17 11 2016

    नई दिल्‍ली। विज्ञान की तरक्‍की के साथ ही बीमारियों के इलाज में भी काफी मदद मिलने लगी है। इसी का फायदा लेते हुए डॉक्‍टर अब आवाज सुनकर दिल की बीमारी का पता लगाने में जुटे हैं। लंदन के मेयो क्लिनिक और एक वॉइस एनालिटिकल कंपनी बियॉन्‍ड वर्बल मिलकर आवाज और कोरोनरी आर्टरी डीसीज के बीच संबंध ढूंढने में सफलता हासिल की हैं।

    यह डीसीज बेहद आम बीमारी है जिसमें खून पहुंचाने वाली नसों में प्‍लाक जम जाता है जो हृदयघात का कारण बनता है। इस स्‍टडी के डायग्‍नोस्‍टि‍क टूल ने पता लगाया है कि वॉइस सिग्‍नल में एक अकेला बायो मार्कर कोरोनरी आर्टरी डीसीज की बढ़ी हुई संभावनाओं से जुडा था।

    इसके बाद बियोंड वर्बल के सीईओ युवल मोर ने कहा कि यह एक बहुत बड़ी और नई चीज है कि इसे बताने के लिए सुना गया। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि हम यहां जिस वोकल कैरेक्‍टरस्‍टीक्‍स की बात कर रहे हैं वो किसी इंसान की स्‍पीच के टिंबर और वॉल्‍यूम से ज्‍यादा स्‍पेशलाइज्‍ड है।

    अगर इसकी इंसान के वि‍जन से तुलना करें तो जहां नग्‍न आंखें केवल वेवलेंथ की रेंज ही देख सकती है वहीं इंफ्रारेड और अल्‍ट्रावॉयलेट किरणों को देखने के लिए विशेष सेंसर्स की जरूरत होती है। मोर के अनुसार यह तकनीक आवाज को एनलाइज करके उन अलग-अलग मेडिकल कंडिशंस का पता लगा सकती है जिन्‍हें साधारण कान नहीं सुन सकते।

    इस प्रयोग को टीम अब चीन और इजराइल में भी करना चाहती है ताकि यह पता लग सके कि यही सह संबध अलग-अलग भाषाओं में भी नजर आता है या नहीं। इसके अलावा यह लोग दिल की बीमारी से जुड़े किसी एक वॉइस कैरेक्‍टरस्‍टीक का भी परीक्षण करेंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी