Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    गर्भाशय में ही किया बच्ची का ऑपरेशन, अब पांच महीने की उम्र

    Published: Sat, 01 Aug 2015 11:53 PM (IST) | Updated: Sat, 01 Aug 2015 11:55 PM (IST)
    By: Editorial Team
    hospital-doctor 01 08 2015

    लंदन। ब्रिटेन में एक बच्ची का गर्भाशय में ही ऑपरेशन कर उसे जीवित बचाने का मामला सामने आया है। डोनकैस्टर में रहने वाली मिशेल कैनन की अजन्मी बच्ची की छाती में पानी भर गया था जिससे उसके फेफड़ों में गंभीर समस्या पैदा हो गई थी।

    हालांकि डॉक्टरों ने बच्ची का गर्भाशय में ही ऑपरेशन कर उसे बचा लिया। फेक नामक इस बच्ची की उम्र पांच महीने हो चुकी है और वह बिलकुल स्वस्थ है। जब डॉक्टरों ने दी थी गर्भपात की सलाहमिशेल बताती है कि 22 हफ्ते की गर्भावस्था के बाद उन्हें बताया गया कि गर्भाशय में पल रही उनकी बच्ची जटिल बीमारी से पीड़ित है। बच्ची के छाती में फ्लूइड भर गया जिससे उसके फेफड़े खराब हो सकते हैं। डॉक्टरों ने 31 वर्षीय मिशेल को गर्भपात की सलाह दी।

    इंटरनेट से मिली जानकारी

    मिशेल ने बताया कि डॉक्टरों की इस सलाह के बाद उन्होंने बच्ची की समस्या को लेकर इंटरनेट पर रिसर्च की। इसमें उन्हें दुर्लभ "इन-वोम्ब सर्जरी" के बारे में पता चला। दुनियाभर में भी इस सर्जरी के ज्यादा मामले सामने नहीं आए हैं। मिशेल और उनके पार्टनर गैरेथ डॉसन तुरंत नजदीकी अस्पताल में गए जहां उन्होंने इस ऑपरेशन के बारे में पूछा। हालांकि इसमें गर्भपात समयपूर्व प्रसव का खतरा था लेकिन दोनों ने ऑपरेशन की अनुमति दे दी।

    ऐसे हुआ ऑपरेशन डॉक्टरों ने बच्ची के छाती के जरिए 50 सेंटीमीटर की सुई डालकर फ्लूइड को सफलतापूर्वक बाहर निकाला। बच्ची का ऑपरेशन के दौरान मूवमेंट कम हो, इसके लिए उसे इंजेक्शन भी दिया गया था। लगातार इलाज के बाद 38 हफ्ते में फेथ नामक इस बच्ची का जन्म हुआ।

    अब उसकी उम्र पांच महीने है और वह बिलकुल स्वस्थ है।15 हजार में से एक को समस्याफेथ को हायड्रॉप नामक समस्या हुई थी जिसमें शरीर में फ्लूइड भरने की समस्या पैदा हो जाती है। यह 15 हजार में से एक गर्भावस्था के मामलों में सामने आती है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें