Naidunia
    Thursday, April 27, 2017
    PreviousNext

    तनाव से लेकर डायबिटीज तक ये हैं मुंह की दुर्गंध के कारण

    Published: Tue, 21 Mar 2017 04:47 PM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 04:53 PM (IST)
    By: Editorial Team
    bad breath 21 03 2017

    लंदन। मुंह से दुर्गंध आने के कारण कई लोगों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। मगर, यह ऐसी समस्या है, जो हर चार में एक लोग में होती ही है। आमतौर पर यह सल्फर-निकालने वाले सब्सटेंस के कारण होता है, जिससे बदबू आती है।

    ऐसा तब होता है, जब कोशिकाएं मरना शुरू कर देती हैं और कोशिकाओं ने नवीनीकरण की प्राकृतिक प्रक्रिया के तहत होता है। या कई बार मुंह में रह रहे कुछ खास किस्म के बैक्टीरिया की मौजूदगी के कारण भी होता है। मुंह से कितनी बदबू आ रही है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि बदबू फैलाने वाले बैक्टीरिया का स्तर कितना है। जानते हैं इसके अन्य कारणों के बारे में...

    जीभ को साफ नहीं करते हैं

    मुंह से दुर्गंध का सबसे आम कारण जीभ पर गंध पैदा करने वाले जीवाणुओं की अत्यधिक वृद्धि होना है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि यह खाने-पीने, धूम्रपान या अन्य मामलों से संबंधित है। मगर, जीवाणु का निर्माण जीभ के सबसे पिछले हिस्से में होता है। लंदन में क्वीन मैरी विश्वविद्यालय में दंत चिकित्सा संस्थान में ओरल माइक्रोबायोलॉजिस्ट प्रोफेसर रॉबर्ट ऑलेकर और डॉ अब्श स्टीफन ने कहा कि टूथब्रश से जीभ को धीरे से साफ करना दुर्गंध को कम करने में मदद कर सकता है।

    बहुत बात करते हैं, तो भी आती है बदबू

    जो कुछ भी मुंह को डिहाइड्रेट करता है, वह सांस में दुर्गंध का खतरा बढ़ाता है, क्योंकि लार गंध से उत्पन्न बैक्टीरिया या कोशिकाओं को दूर करने में मदद करता है। यही कारण है कि सुबह के समय मुंह से काफी दुर्गंध आती है क्योंकि उस वक्त लार का प्रवाह कम हो जाता है। जो लोग आमतौर पर मुंह से सांस लेते हैं, उनमें भी यह समस्या आम होती है। डॉ. ड्यूआरियन ने कहा कि बहुत बोलने वाले लोगों में भी यह समस्या होती है, क्योंकि उनकी लार भी सूख जाती है।

    काम में तनाव

    तनाव के कारण भी स्लाइवा का फ्लो प्रभावित होता है, जिससे मुंह सूखता है। बुल्गारिया में मेडिकल यूनिवर्सिटी ऑफ सोफिया ने पाया कि स्ट्रेस हार्मोंस के कारण दुर्गंध फैलाने वाले बैक्टीरिया तेज गति से बढ़ते हैं। इसलिए यदि आप अधिक तनाव में हैं, तो मुंह की सफाई और माउथवाश का उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

    खाना नहीं खाना

    खाना लार के उत्पादन को उत्तेजित करता है और मुंह से भोजन और बैक्टीरिया को स्थानांतरित करता है। इसलिए भोजन की सरल प्रक्रिया से मुंह की दुर्गंध को कम करने में मदद करती है। स्विट्जरलैंड में स्थित बर्न विश्वविद्यालय के दंत चिकित्सा क्लिनिक द्वारा अध्ययनों में पाया गया कि श्वांस की गंध खाना खाने के बाद ढाई घंटों तक बदबू को कम करता है। अब भोजन में मौजूद फाइबर टूथब्रश की तरह काम करता है। इसलिए नियमित रूप से समय पर खाने से दुर्गंध को कम कर सकते हैं। डॉक्टर ड्यूरियन ने कहा कि उपवास या उच्च प्रोटीन / कम-कार्बोहाइड्रेट वाला भोजन शरीर को किटोसिस अवस्था में बदलता है, जहां यह ईंधन के लिए शरीर वसा जलता है। इससे सांस में दुर्गंध पैदा होती है।

    डायबिटीज की आशंका तो नहीं

    खून में मौजूद रसायनों के कारण भी मुंह से दुर्गंध आनी शुरू हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्ट इंग्लैंड के ओरल माइक्रोबायोलॉजिस्ट डॉ. सालिहा साद कहते हैं कि हम इसे रक्तजनित हैलिटोसिस कहते हैं। यह सांस में दुर्गंध का सामान्य कारण नहीं है, इसलिए इनका ध्यान रखना चाहिए। यह आमतौर पर उन बीमारियों से संबंधित होता है, जहां जहरीले रक्त का निर्माण होता है और इनसे जुड़ी दुर्गंध पसीने या सांस से निकलती हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी