Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    विमान उड़ाकर 331 लोगों की जान लेने वाला आजाद

    Published: Thu, 16 Feb 2017 07:09 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 08:21 AM (IST)
    By: Editorial Team
    inderjit singh reyat 16 02 2017

    ओटावा। कनाडा ने इंद्रजीत सिंह रेयत को रिहा कर दिया है। 1985 में एयर इंडिया के विमानों में हुए धमाकों का वह इकलौता दोषी है। धमाकों में 331 लोगों की मौत हो गई थी। कनाडा के पैरोल बोर्ड के प्रवक्ता पैट्रिक स्टोरे ने बताया कि रेयत से अब बंदिशें हटा ली गई है। वह सामान्य जिंदगी जी सकता है। निजी आवास में भी रह सकता है।

    दो दशक जेल में गुजारने के बाद रेयत करीब साल भर पहले सुधार गृह में भेजा गया था। उसे वैंकूवर से उड़ान भरने वाले दो विमानों में रखे गए बम को बनाने और अदालत में सह आरोपी को बचाने के लिए झूठ बोलने का दोषी पाया गया था।

    जांच के दौरान यह साबित हुआ था कि कनाडा में मैकेनिक का काम करने वाले रेयत ने डायनामाइट, बैटरी और डेटोनेटर खरीदे। उससे बम बनाए और एयर इंडिया की फ्लाइटों में रखे। रेयत के साथ मुकदमा झेलने वाले दो अन्य आरोपियों को सुबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था। धमाके स्वर्ण मंदिर में खालिस्तानी आतंकियों के खिलाफ सैन्य कार्रवाई के विरोध में किए गए थे।

    सशर्त आजादी

    - रेयत पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़े यह तय करने की छूट पैरोल अधिकारी को होगी।

    - रेयत किसी पीड़ित परिवार या कट्टरपंथियों से संपर्क करने की कोशिश नहीं करेगा।

    - वह किसी भी राजनीतिक गतिविधि में शामिल नहीं हो सकेगा।

    - समय-समय पर मनोचिकित्सक के पास भी जाना होगा।

    23 जून 1985

    - एयर इंडिया की उड़ान 182 कनिष्क में रखा बम आयरलैंड तट के ऊपर फटा। विमान में सवार सभी 329 लोगों की मौत हो गई थी।

    - दूसरा बम जापान के नारिता हवाई अड्डे पर उस वक्त फटा जब दो कार्गो कर्मचारी सामान को एयर इंडिया के ही दूसरे विमान में रख रहे थे। दोनों कर्मचारियों की मौत हो गई थी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें