मुंबई। सीबीआई ने रविवार को आईसीआईसीआई बैंक की एमडी और सीईओ चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर और न्यू पावर रिन्यूबल्स प्राइवेट लिमिटेड के दो निदेशकों से पूछताछ की। राजीव से लगातार चौथे दिन और निदेशक महेश चंद्र पुगलिया से दूसरे दिन पूछताछ हुई। मामला सन 2012 में वीडियोकॉन ग्रुप को 3,250 करोड़ रुपये कर्ज देने का है, जो बाद में न्यू पावर को हस्तांतरित कर दिया गया था। कर्ज की राशि आईसीआईसीआई बैंक को वापस नहीं मिली।

पता चला है कि वीडियोकॉन समूह के मालिक वेणुगोपाल धूत के दो खास लोग वैंकट नायक और महेश चंद्र पुगलिया न्यू पावर लिमिटेड में निदेशक हैं। चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और वेणुगोपाल धूत ने मिलकर 2008 में न्यू पावर लिमिटेड बनाई थी। इसके बाद धूत उससे अलग हो गए।

राजीव, महेश और वैंकट से सीबीआई के बांद्रा ऑफिस में पूछताछ की गई। पुगलिया ने बताया कि वह पहले वीडियोकॉन समूह में कार्य करते थे। इसके बाद उन्होंने न्यू पावर को कंसल्टेंट के रूप में भूमिका अदा की। आमने-सामने बैठाकर हुई पूछताछ में महेश पुगलिया और वैंकट नायक कई सवालों पर एक-दूसरे के खिलाफ बोलते सुनाई दिए। उनसे राजीव कोचर की सिंगापुर स्थित कंपनी में भागीदारी के बारे में पूछा गया।