नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। खुदरा महंगाई के बाद थोक महंगाई में भी बढ़ोतरी हुई है। फरवरी महीने में थोक मूल्य सूचकांक (WPI) बढ़कर 2.93 हो गया, जो जनवरी में 2.76 फीसद था।

पिछले साल की समान अवधि में WPI, 2.74 फीसद रहा था। खाने-पीने के सामान और ईंधन की कीमतों में हुई वृद्धि की वजह से थोक महंगाई में इजाफा हुआ है। जनवरी में WPI, 10 महीनों के निचले स्तर पर चला गया था।

रॉयटर्स पोल में अर्थशास्त्रियों ने इसके 2.88 फीसद रहने का अनुमान लगाया था।

आरबीआई ने महंगाई के लिए 4 फीसद (+- दो फीसद) का लक्ष्य रखा है। ब्याज दरों को तय करने वक्त आरबीआई खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखता है।

गौरतलब है कि पिछली समीक्षा बैठक में आरबीआई ने रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती की थी। माना जा रहा है कि अगली बैठक में आरबीआई एक बार फिर से ब्याज दरों में कटौती की राहत दे सकता है।

यह भी पढ़ें: जानें क्यों, महंगाई बढ़ने के बावजूद RBI फिर से घटा सकता है ब्याज दरें