नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने बुधवार को बताया कि उसकी मुंबई स्थित शाखा में 177.17 करोड़ डॉलर के फर्जी लेन-देन का मामला सामने आया है। पीएनबी द्वारा घोटाले की घोषणा किए जाने के बाद बाजार में इसके शेयर्स में भारी बिकवाली देखने को मिली। पीएनबी के शेयर में तकरीबन 8 फीसद की गिरावट दर्ज की गई। वहीं दूसरी तरफ बैंक ने नीरव जोशी फ्रॉड केस में अपने 10 अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

पीएनबी की ओर से स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में मुंबई ब्रांच में हुए फ्रॉड की जानकारी दी गई। इसमें बताया गया है कि यह फर्जी लेन-देन कुछ चुनिंदा खाताधारकों को फायदा पहुंचाने के उद्देश्य से की गई। हालांकि, बैंक ने इस फर्जीवाड़े में शामिल लोगों के नामों का खुलासा नहीं किया है, लेकिन बताया है कि इसकी जानकारी इनफोर्समेंट एजेंसियों को दे दी गई है।

इसके साथ ही बैंक ने बताया कि वह बाद में इस बात का आंकलन करेगा कि इन लेन-देन से उसकी कोई देनदारी तो नहीं बनती है।

आपको बता दें कि पीएनबी पहले से ही इस तरह के अन्य फर्जीवाड़े की जांच कर रहा है। पिछले हफ्ते सीबीआई ने बयान जारी कर बताया था कि उसने पीएनबी की शिकायत पर अरबपति ज्वेलर नीरव मोदी के खिलाफ जांच शुरू की है। पीएनबी ने नीरव मोदी व अन्य पर 4.4 करोड़ डॉलर के फर्जीवाड़े का आरोप लगाया था।

फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि मौजूदा खुलासा इसी मामले से जुड़ा है या इससे अलग है।