मुंबई। रिजर्व बैंक ने पीएनबी में हुई बड़ी धोखाधड़ी जैसी घटनाएं रोकने के लिए मंगलवार को बड़ा फैसला किया। आरबीआई ने बैंकों की तरफ से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) जारी करने पर पाबंदी लगा दी है।

नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चौकसी ने पंजाब नेशनल बैंक के जरिए कथित तौर पर 13 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करने के लिए यही तरीका अपनाया था।

आरबीआई की तरफ से कहा गया है कि व्यापारिक जरूरतों के लिए एलओयू और लेटर ऑफ कंफर्ट (एलओसी) जारी करने के चलन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है।

एलओसी भी एलओयू की तरह होता है और इसका उपयोग आयातक विदेशों में खरीदी के लिए करते हैं। हालांकि लेटर्स ऑफ क्रेडिट और बैंक गारंटी कुछ शर्तों के साथ जारी रहेंगे।