जशपुरनगर। छत्तीसगढ़ के जशपुरनगर जिले में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक से निकली भूमिगत जहरीली गैस से गृह स्वामिनी समेत पांच लोगों की मौत हो गई। ये सभी लोग एक के बाद एक सेप्टिक टैंक में उतरे और दम घुटने से टैंक में भरे पानी में गिर गए।

फरसाबहार थाना क्षेत्र के ग्राम पंडरीपानी- बेहराटोली निवासी जगन्नाथ साय पैंकरा अपने घर में शौचालय के लिए एक नया सेप्टिक टैंक बनवा रहे थे। 20 दिन पूर्व उन्होंने टैंक निर्माण का काम रुकवा दिया था क्योंकि घर में धार्मिक अनुष्ठान था। टैंक में कोई गिरे न इसके लिए उन्होंने टैंक के मुहाने पर सीमेंटेड प्लेट लगवा दी थी।

रविवार को टैंक निर्माण का काम उन्होंने दोबारा शुरू कराया। सुबह साढ़े आठ बजे उनकी पत्नी सावित्री साय पैंकरा (45) तीन मजदूर के साथ निर्माण कार्य कराने पहुंची। सीढ़ी लगा कर राज मिस्त्री रामजीवन (35) पुत्र सुख साय टैंक में उतरा। नीचे उतरने के बाद बहुत देर तक सुख साय का कुछ आहट नहीं मिलने पर उसका भाई ईश्वर (40) भी नीचे उतरा। उसकी भी आहट नहीं मिली।

इसके बाद एक-एक कर मजदूर भादू साय (60) पुत्र प्रबल साय, रामजीवन और ईश्वर साय भी टैंक में उतरे। वह भी टैंक में ओझल हो गए तो घबराकर गृह स्वामिनी सावित्री पैकरा व उनका पोता परमजीत पैंकरा पुत्र संग्राम पैंकरा भी टैंक में उतर गए। जो भी टैंक में उतरा जहरीली गैस का शिकार होकर टैंक में भरे पानी में जा गिरा। इससे गांव में हड़कंप मच गया।

ग्रामीणों के जुटने पर किसी तरह टैंक में गिरे लोगों को निकाला गया। अस्पताल पहुंचाने पर चिकित्सकों ने पांचों को मृत घोषित कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि टैंक नया था, उसमें कोई गंदगी भी नहीं थी। सिर्फ पानी भर गया था। ऐसे में आशंका जताई गई है कि भूमिगत गैस के चलते टैंक में उतरे लोगों का दम घुटा। घटना के बाद शोक में पुरसाबहार सहित आसपास के ग्रामीण अंचल के बाजार बंद हो गए।