हेमंत कश्यप, जगदलपुर। भगवान जगन्नाथ का महापर्व रथयात्रा बस्तर में 610 साल से गोंचा के नाम से मनाया जा रहा है। पुरी की तरह यहां भी तीन रथों पर भगवान विराजते हैं। इनकी सलामी देने के लिए हजारों ग्रामीण तुपकी चलाते हैं। इस मौके पर 104 गांवों में आरण्यक ब्राह्मण जगन्नाथ मंदिर में छह दिवसीय महाभंडारा आयोजित करते हैं। यह पर्व दशहरा के बाद बस्तर का दूसरा सबसे चर्चित महापर्व है।

1408 में मिली रथपति की उपाधि

बस्तर महाराजा पुरुषोत्तम देव 1408 में भगवान जगन्नाथ का दर्शन करने पुरी गए थे और वहां बस्तर बाड़ा बनाकर लंबे समय तक रहते हुए भगवान की आराधना की थी। इस दौरान उन्हें रथपति की उपाधि मंदिर के पंडों ने दी थी। वहीं 16 पहियों वाला रथ भी भेंट किया था।

पुरी से प्राप्त 16 चक्के के रथ को ही बस्तर में तीन हिस्सों में बांटकर दशहरा और गोंचा के समय चलाया जाता है। यह परंपरा लगातार 610 साल से जारी है। 16 पहियों वाले रथ को चलाने में दिक्कत होती थी इसलिए 1810 में बस्तर दशहरा के 12 पहियों वाले रथ को आठ व चार पहियों का कर दिया गया था। तब से चारपहियों वाला रथ फूलरथ और आठ पहियों वाला रथ बाहर और भीतर रैनी के दिन विजय रथ के रूप में संचालित किया जाता है।

छह दशक पुराना इतिहास

महाराजा पुरुषोत्तम देव को रथपति की उपाधि देने के बाद ही 610 साल से बस्तर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निरंतर जारी है। समयानुसार बस्तर रियासत की राजधानी लगातार बदलती रही इसलिए यह रथ कभी मधोता तो कभी बस्तर में संचालित होता रहा। जगदलपुर को राजधानी बनाने के बाद वर्ष 1775 से जगदलपुर में रथ संचलन शुरू हुआ।

पहले चलते थे सात रथ

रियासतकाल में गोंचा के मौके पर यहां सात रथों का संचलन होता था। भगवान जगन्नाथ मंदिर के छह मंदिरों में विराजित भगवान जगन्नाथ, भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के विग्रहों को छह रथों पर विराजित किया जाता था।

वहीं सातवें रथ में भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की प्रतिमा विराजित रहती थी। यहां भगवान जगन्नाथ की बड़े गुड़ी, मरेठिया, मलकानाथ, कालियानाथ, अमात्य, भरतदेव गुड़ी है। यहां स्थापित 22 मूर्तियों को ही छह रथों में विराजित किया जाता था। अब इन्हें तीन रथों में विराजित कर रथयात्रा शुरू होती है।

104 गांवों का महाभंडारा

रथयात्रा के मौके पर बस्तर संभाग के 104 गांवों में निवासरत आरण्यक ब्राह्मण जगदलपुर स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर में छह दिवसीय महाभंडारा आयोजित करते हैं। इसे अमनिया कहते हैं। इसके लिए छह टोलियां बनाई गई हैं। हर टोली में करीब 20-25 गांव आते हैं। इस महाभंडारा में प्रसाद ग्रहण करने हजारों की संख्या में श्रद्घालु पहुंचते हैं।

पुरी की तरह तीन रथ

रथयात्रा के मौके पर भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुुभ्रदा के लिए पुरी में तीन अलग-अलग रथों का संचलन होता है। छत्तीसगढ़ में बस्तर ही ऐसा स्थल है जहां रथयात्रा के मौके पर तीन रथों का संचलन होता है। इन रथों में कुल 22 मूर्तियों को विराजित किया जाता है। रथों का निर्माण टेंपल कमेटी द्वारा किया जाता है। प्रतिवर्ष एक नए रथ का निर्माण किया जाता है। रथों को रखने के लिए विशेष स्थल बनाए गए हैं।

गोंचा पर्व 2018 की महत्वपूर्ण रस्में

तारीख रस्म

नेत्रोत्सव 13 जुलाई

श्री गोंचा (रथयात्रा) 14 जुलाई

हेरा पंचमी 18 जुलाई

भोग अर्पण 19 जुलाई

बाहुड़ा गोंचा 22 जुलाई

देवशयनी एकादशी 23 जुलाई