कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

पᆬूलों की व्यावसायिक खेती से किसानों को जोड़ने की पहल जिला उद्यानिकी विभाग से की जा रही है। 70 हेक्टेयर भूमि रजनीगंधा सहित अन्य पᆬूलों की खेती आगामी खरीपᆬ पᆬसल में की जाएगी। पौधा तैयार करने के लिए उद्यानिकी विभाग को 18.75 लाख का आवंटन किया गया गया है। इच्छुक किसान खेती के लिए ब्लॉक उद्यानिकी केंद्र में पंजीयन करा सकते हैं। किसानों को विभाग से निःशुल्क पौधा उपलब्ध कराया जाएगा।

शादी ब्याह से लेकर विभिन्न धार्मिक उत्सव में जब अधिक मात्रा में पᆬूलों की आवश्यकता होती है, तो यह आपूर्ति दूसरे जिले से होती है। पᆬूलों की खेती में जिला अब भी आत्मनिर्भर नहीं है। बुके व्यवसाय से जुड़े लोग भी अन्य जिलों से मंगाकर आपूर्ति करते हैं। पᆬूलों की खेती में संभावना देखते हुए शासन से पहली बार उद्यानिकी विभाग के मापर्ᆬत खेती को बढ़ावा देने की योजना तैयार किया गया है। योजना के तहत ग्लेडूलस व रजनीगंधा के पᆬूलों का चयन किया गया है। रजनीगंधा मंहगा पᆬूल है, जिसकी बाजार में खासी मांग है। ग्लेडूलस भी रजनीगंधा की तरह ऐसा पᆬूल है, जिसके पत्ते बुके तैयार करने में कारगर होते हैं। विभागीय अधिकारियों की मानें तो पᆬूलों की खेती के खास देखरेख की जरूरत नहीं होती। शहरों में बुके एवं सजावट व्यवसाय से जुड़े लोगों में आपूर्ति की जा सकेगी। सामान्यतौर पर गेंदा, मोंगरा, मदार, के अलावा सामान्य तौर पर आंगन में लगाए जाने वाले पᆬूलों को इस पौधे के साथ रोपणी की जा सकती है। पᆬूलों की उपलब्धता से बुके व्यवसायियों को बाहर से पᆬूल नहीं मंगाना पड़ेगा। पᆬूलों की खेती को सब्जी खेती के लिए बाड़युक्त खेतों में आसानी से लगाया जा सकता है। पᆬूल उत्पाद में बार-बार जुताई व बोआई की समस्या नहीं होती। बोआई के लिए इच्छुक किसानों का पंजीयन ब्लॉक उद्यानिकी कार्यालय में किया जाएगा। पंजीयन के आधार पर किसानों का चयन विभाग की ओर से भूमि निरीक्षण के बाद किया जाएगा।

बाक्स

किसानों को किया जाएगा प्रशिक्षित

खेती से जुड़ने वाले किसानों को विभाग की ओर से निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा। खेतों की मिट्टी परीक्षण के आधार पर न केवल सुगंधित पᆬूल बल्कि तेल उत्पादन के लिए सूर्यमुखी पᆬूल की खेती की भी जानकारी दी जाएगी। सूर्यमुखी की खेती के प्रति किसानों में जुड़ाव देखा जा रहा। वार्षिक खेती होने की वजह से यह सुगंधित पᆬूलों की खेती से अलग है। इसके पहले गेंदापᆬूल उत्पादन के लिए भी उद्यानिकी विभाग से पहल की गई थी। प्रशिक्षण के अभाव में यह योजना कारगर नहीं हो पाया।

बाक्स

मधुमक्खी पालन को भी बढ़ावा

पᆬूलों की खेती से जुड़ने वाले किसानों के लिए मधुमक्खी पालन की राह आसान होगी। विभाग के नए वित्तीय वर्ष में मधुमक्खी पालन के लिए 10 लाख का आवंटन मिला है। 500 हितगाहियों के लिए जारी योजना में पᆬूलों की खेती से जुड़े किसानों को दोहरा लाभ मिलेगा। योजना में किसानों को जोड़ने की पहल शुरू हो चुकी है। हाथी प्रभावित क्षेत्रों के लिए मधुमक्खी पालन कारगर साबित हो सकता है।

वर्सन

रजनीगंधा की खेती से किसानों को जोड़ा जाएगा। 70 हेक्टेयर भूमि में पᆬूलों की रोपणी की जाएगी। योजना के लिए 18.75 लाख आवंटन की स्वीकृति हुई है। इसके तहत चयनित हितग्राही किसानों के लिए पौधा तैयार कर निःशुल्क वितरण किया जाएगा।

- भुवनेश्वरी कंवर, सहायक तकनीक अधिकारी, उद्यानिकी

----------------------